Friday, May 14

बिहार में 15 मई तक टोटल लॉकडाउन:आज से बिहार भी बंद, कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए लॉकडाउन लगाने वाला छठा राज्य

उत्तराखंड में उत्तरकाशी में सोमवार को बादल फट गया। यह घटना चिन्यालीसौड़ ब्लॉक के कुमराड़ा गांव में हुई। इससे यहां बनी कैनाल का पानी ओवरफ्लो होकर घरों में घुस गया। पानी के साथ आई मिट्टी से घरों की दीवारें कई फीट तक दब गईं। कई गोशालाओं को भी इस हादसे में नुकसान हुआ है। रुद्रप्रयाग जिले के नरकोटा में भी बादल फटने से पहाड़ों की मिट्टी पानी के साथ बहकर घरों में आ गई। ग्रामीणों ने ऊंचे इलाकों में जाकर अपनी जान बचाई।

पानी और मलबे का बहाव करीब एक घंटे तक चला। इससे लोगों के घरों के कई सामान खराब हो गए। उत्तरकाशी के जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेन्द्र पटवाल ने बताया कि बादल फटने के कारण ग्रामीणों के खेत और घरों में पानी भर गया है।

टिहरी में तेज बारिश
इसके अलावा टिहरी के कई इलाकों में भी तेज बारिश हुई है। यहां SDRF और पुलिस राहत-बचाव के काम में लगे हैं। उत्तराखंड में पिछले 4 दिनों से मौसम खराब बना हुआ है। पहाड़ी इलाकों में लगातार बारिश और बर्फबारी हो रही है। एक दिन पहले सोमवार की शाम चमोली जिले में ओले गिरे थे।

CM ने मदद के लिए आदेश दिया
दो जिलों में बादल फटने की जानकारी मिलने के बाद मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के अधिकारियों से फोन पर बात की। उन्होंने सोशल मीडिया पर कहा कि हादसे में प्रभावित लोगों को तुरंत सहायता राशि दी जाएगी। इसके लिए अधिकारियों को निर्देश दे दिए गए हैं।

ग्लेशियर टूटने से हुई थी 10 से ज्यादा की मौत
इससे पहले भारत-चीन बॉर्डर से लगी चमोली जनपद के जोशीमठ में 23 अप्रैल को ग्लेशियर टूटकर मलारी-सुमना सड़क पर आ गया था। बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन (BRO) के कमांडर कर्नल मनीष कपिल ने बताया था कि सड़क निर्माण का काम चलने के दौरान हादसा हुआ था। इस हादसे में 10 से ज्यादा मजदूरों की मौत हुई थी। ग्लेशियर टूटने का कारण भारी बर्फबारी को माना गया था। हादसे की वजह से जोशीमठ-मलारी हाईवे भी बर्फ से ढक गया था।

फरवरी में आ चुकी है जल प्रलय
इससे पहले उत्तराखंड में 7 फरवरी 2021 की सुबह साढ़े 10 बजे चमोली जिले के तपोवन में ग्लेशियर टूटकर ऋषिगंगा नदी में गिरा था। हादसे के बाद 50 से ज्यादा लोगों की लाश मिली थी, जबकि 150 से ऊपर लोग ऐसे थे, जिनका हादसे के बाद पता नहीं चल पाया।

प्रशासन ने कुछ दिन तक चली खोजबीन के बाद इन्हें भी मृत मान लिया था। नदी में ग्लेशियर गिरने से धौलीगंगा पर बन रहा एक बांध बह गया था। तपोवन में एक प्राइवेट पावर कंपनी के ऋषिगंगा हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट और सरकारी कंपनी NTPC के प्रोजेक्ट पर काम चल रहा था। आपदा में सबसे ज्यादा नुकसान यहीं हुआ था।

comments