Sunday, April 18

भोपाल रेलवे स्टेशन पर RT-PCR टेस्ट बंद!:ट्रेन में खचाखच भरे यात्री, स्टेशन पर जांच के नाम पर थर्मल स्क्रीनिंग की खानापूर्ति; लैब ने जांच बंद की, हबीबगंज में सैंपल जांच की सुविधा ही नहीं

मध्य प्रदेश में कोरोना का संक्रमण बेकाबू होता जा रहा है। सरकार ने महाराष्ट्र से आने वाले यात्रियों की जांच और संदिग्ध को आईसोलेट करने के निर्देश जारी किए हैं। इसके बावजूद ट्रेनों में कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ाई जा रही है। स्टेशनों पर थर्मल स्कैनिंग के नाम पर खानापूर्ति की जा रही है। भोपाल स्टेशन पर RT-PCR की जांच लैब बंद हो गई है। हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर तो RT-PCR जांच की सुविधा ही नहीं है।

भोपाल और हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर सिर्फ थर्मल स्क्रीनिंग से यात्रियों की जांच के नाम पर खानापूर्ति हो रही है। यात्रियों की जांच के के लिए आरपीएफ जवानों को थर्मल स्कैनिंग मशीन दी गई। जांच के नाम पर कोई पुख्ता इंतजाम नहीं है। एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि कई लोग रिपोर्ट लेकर नहीं आ रहे हैं। उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होती तो वह टेस्ट कराने में भी असमर्थता जताते हैं। ऐसे में मजबूरी में उनको बाद में छोड़ना पड़ता है।

भोपाल रेलवे स्टेशन पर जांच बंद कर रही काम
भोपाल रेलवे स्टेशन पर 1 अप्रैल से एसआरएल डायग्नोस्टिक लिमिटेड ने कोरोना की जांच शुरू की, लेकिन उनको जांच के लिए यात्री ही नहीं मिल पा रहे। अब सरकार की तरफ से जांच की दरें कम करने के बाद लैब ने भोपाल रेलवे स्टेशन से काम बंद करने का निर्णय ले लिया है। इसकी सूचना रेलवे के अधिकारियों को भी दे दी गई है।

हबीबगंज रेलवे स्टेशन: मुंबई से आई ट्रेन में एक बर्थ पर 6 लोग बैठे थे
​​​​ 
हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर मंगलवार दोपहर करीब 2.40 पर मुंबई से गोरखपुर जाने वाले कुशीनगर ट्रेन पहुंची। ट्रेन की आगे की बोगी में लोगों के बैठने की जगह ही नहीं थी। तीन लोगों की बैठने की जगह पर 6 लोग बैठे थे। कई यात्री फर्श और शौचालय के पास भी बैठे दिखे। इसमें कई यात्रियों ने मास्क भी नहीं लगाया हुआ था। स्टेशन में कोई अनाउंसमेंट भी नहीं हो रहा था।

हमने रेलवे अधिकारियों को दे दी जानकारी

“ सरकार ने टेस्ट के नए रेट तय किए है। इससे हमारी कास्टिंग नहीं निकल रही है। दूसरा यात्री भी आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण टेस्ट कराने में असमर्थता जताते हैं। हम भोपाल में जांच की सुविधा बंद कर रहे हैं। इस संबंध में हमने रेलवे के अधिकारियों को भी अवगत करा दिया है। ”

– नीलेश शर्मा, संचालक, एसआरएल डायग्नोस्टिक लिमिटेड

कल से बड़े स्तर पर शुरू कर रहे जागरूकता अभियान
“ हम बड़े स्तर पर गुरुवार से कोविड जागरूकता अभियान की शुरुआत कर रहे हैं। इसमें पोस्टर, बैनर, सोशल मीडिया से प्रचार-प्रसार होगा। अनाउंसमेंट भी स्टेशनों पर किया जा रहा है। जांच के लिए राज्य सरकार के साथ सामंजस्य बना कर जल्द ही सुविधा उपलब्ध कराए जाएगी। ”

– राहुल जयपुरिया, सीपीआरओ, जबलपुर जोन

comments