Sunday, November 29

शरीर में कोरोना वायरस को बढ़ने से रोकने वाली दवा मिली

अमेरिकी रिसर्चर्स ने ऐसी का पता लगाया है जो संक्रमण के बाद शरीर में कोरोना वायरस की संख्या बढ़ने (रेप्लिकेट) से रोकेगी। यह दवा पहले से मौजूद है। अब इसे कोरोना के इलाज में इस्तेमाल किया जाएगा। दवा का नाम एब्सेलेन है। इसका इस्तेमाल बायपोलर डिसऑर्डर और सुनने की क्षमता घटने (हियरिंग डिसऑर्डर) के इलाज में किया जाता है।

इस दवा पर नया रिसर्च अमेरिका की शिकागो यूनिवर्सिटी ने किया है। शोधकर्ताओं के मुताबिक- दवा से ऐसे एंजाइम्स को कंट्रोल किया जाएगा जो शरीर में कोरोना की संख्या को बढ़ाते हैं।

मरीज की हालत नाजुक होने से रोका जा सकेगा
साइंस एडवांसेस जर्नल में पब्लिश रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक- एम-प्रो नाम का एंजाइम कोरोनावायरस को रिप्लीकेट (वायरस की संख्या बढ़ना) होने से रोकने में बेहद मददगार है। यही RNA कोरोना का स्पाइक प्रोटीन बनाता है। एम-प्रो एंजाइम की मदद से कोरोना शरीर में संख्या बढ़ाता है। लिहाजा, मरीज की हालत नाजुक हो जाती है। अब वैज्ञानिक इसी एंजाइम को कंट्रोल करके इलाज करेंगे।

कोरोना के खिलाफ हथियार की तरह होगी दवा
शोधकर्ता जुआन डी-पैब्लो के मुताबिक- जो दवा टीम ने पता की है वो कोरोना के एंजाइम एम-प्रो के खिलाफ हथियार की तरह काम करेगी। इसे कंट्रोल करने में एब्सेलेन नाम के रसायन का प्रयोग होगा। इसमें एंटीवायरल, एंटी-इंफ्लेमेट्री और एंटी-ऑक्सीडेटिव जैसी खूबियां हैं। इससे कोशिकाओं को नष्ट होने से रोका जा सकेगा। इसका इस्तेमाल पहले ही बायपोलर और हियरिंग लॉस जैसी बीमारियों में किया जा रहा है। इन बीमारियों के इलाज में यह दवा काफी कारगर साबित हुई है।

comments