Wednesday, September 30

कल तक जो विरोध कर रहे थे वो आज बोल रहे हैं जयश्री राम

राजनैतिक महत्वाकांक्षा भी क्या चीज है ।नेताओं को अपना रंग बदलने में जरा भी देर नहीं लगती जो लोग कल तक भगवान श्री राम को काल्पनिक कह रहे थे । ओर उनका विरोध करके राजनैतिक सुख भोग रहे थे । जिनके बढ़े बढ़े बकील राम मंदिर का विरोध किया करते थे । आज वो भगवान श्री राम के गुणगान कर रहे है । अच्छा है उन्हें भी समझ आ रहा है । की सत्ता की मलाई खानी है तो हिंदुओं को नाराज नहीं कर सकते ।

बैसै सनातन धर्म ऐसा हें जो जोड़ता है तोड़ता नहीं सभी को अपनी बात रखने की आजादी है इसलिए यदि देश के लोग भगवान राम के मंदिर बनने पर यदि अपने विचार बदल रहे है तो यह सनातन के लिए शुभसंकेत है ।सनातन धर्म की यही विशेषता भी है इसमें सभी को समाहित करने की शक्ति है ।काश यही भाव कृष्ण जन्म भूमि के लिए ओर हो जाये तो बहुत अच्छा है ।

आज प्रियंका बाड्रा ने एक पत्र भगवान श्री राम की महिमा का गान करते हुये जारी किया जिसकी जानकारी सुरजेवाला ने दी जिसमें सवके हें श्री राम का महत्व बताया है । यह सही है भगवान श्री राम सभी के है पर आश्चर्य इसलिए हो रहा है कलतक जो भगवान राम के नाम पर भडक जाते थे आज वो भगवान श्री राम के महत्व का गान कर रहे है । तो निश्चित ही आश्चर्य होना स्वभाविक है ।

comments