Tuesday, September 29

Month: August 2020

क्या आम अपराधी से भी यही सलूक होता -सुशांत सिंह मौत
Uncategorized, संपादकीय

क्या आम अपराधी से भी यही सलूक होता -सुशांत सिंह मौत

सुशांत सिंह की मौत को दो माह से ऊपर हो गये पर आज तक देश को ये पता नहीं चल सका की आखिर सुशांत सिंह के साथ हुआ कया था। मौत से लेकर आज तक सिर्फ़ मीडिया ही सच निकाल निकालकर ला रही है । इसे दुर्भाग्य ही कहेंगे की एक ओर तो पुलिस साधारण आमआदमी के मामले मे थर्ड डिग्री उपयोग करके दूध का दूध ओर पानी का पानी कर वाहवाही लूटती है ।पर सुशांत के मामले में अलग ही मापदंड अपनाया जा रहा है। देश के लोग बैचेन है सच से पर्दा कव उठेगा पर जांच है की खत्म ही नहीं होती । यह सही है कि सुशांत का मामला साधारण नहीं है ।क्योंकि जिस तरह की बातें आ रही है उसमें पहले ही दिन से संशय पैदा हो रहा है ।पुलिस का रबैया भी पूरी मामले में संदेह पैदा करता रहा है । सुशांत के घर का ताला खोलने से लेकर बॉडी उतरने ओर एंबुलेंस से लेकर पोस्टमार्टम तक सभी जगह गैरजिम्मेदाराना रवैया दिखाई दिया है। पुलिस कि कार्यवाही से संतुष्ट न होने ...
बच्चों के भबिष्य से खिलबाड़ है। नीट ओर जेईई पर राजनीति।
Uncategorized, संपादकीय

बच्चों के भबिष्य से खिलबाड़ है। नीट ओर जेईई पर राजनीति।

आखिर राजनैतिक पार्टियां चाहती क्या है । क्या हर बात पर राजनीति करना जरूरी है । क्या छात्रों के भबिष्य को भी राजनीति कि भेंट चढ़ाना चाहती हैं। नीट ओर जेईई कि परीक्षाओं को क्यों टलवाना चाहती हैं ।उन्हें नहीं लगता कि समय अमूल्य है वो लोटकर नहीं आयेगा । कोरोना का भय दिखाकर परीक्षा टालने बाली बात कहीं से भी तर्क संगत नहीं लगती । राजनैतिक पार्टियों कि मजबूरी कहें , मुद्दों के आभाव मे वह यह भूल ही जाते है की किस बात पर राजनीति करनी है ओर किस बात पर नहीं । इसीलिये विवाद की स्थिति निर्मित होती है ओर बात बात में सुप्रीम कोर्ट पहुंच जाते है । अव नीट ओर जेईई की परीक्षा को ही ले लीजिये इसे न कराने के लिए कितने तरह के तर्क दिए जा रहे है ओर कोरोना का भय दिखाया जा रहा है ।जबकि दारु की दुकान से लेकर कई तरह की सेवाओं को संचालित किया जा रहा है ।कहने का मतलब यह है कि छात्रों के भबिष्य को भी राजनैतिक ...
बॉलीवुड का शुद्धिकरण करने पर आमादा कंगना रनौत
Uncategorized, संपादकीय

बॉलीवुड का शुद्धिकरण करने पर आमादा कंगना रनौत

कंगना रनौत आज एक ऐसा नाम जो बच्चे बच्चे की जुबान पर है ।बॉलीवुड की एक ऐसी अभिनेत्री जो अपनी बेबाक राय से सभी को अचम्भित कर देती है । जिस फिल्म इंडस्ट्री के खिलाफ कोई मुहूं तक नहीं खोलता उसके खिलाफ वो मुखर होती दिखाई देती है । इतना ही नहीं बॉलीवुड के अंदर के भाई भतीजे बाद पर भी वह चुप नहीं रहती । सुशांत सिंह कि मौत पर खुल कर मीडिया में अपनी बात रखी ओर सुशांत को न्याय दिलाने की मुहिम मै अहम भूमिका निभाई है । उसके बाद से ही वह ओर सुर्खियों में आ गई ओर आज ये स्थिति है कंगना के नाम से ही बॉलीवुड की हवा निकल जाती है। जिस दम खम के साथ वह अपनी बात रखती है वह अंदाज भी निराला ही होता है । कंगना रनौत के तेवर देखकर ऐसा लगता है मानों फिल्म इंडस्ट्री का शुद्धिकरण करने के लिए ही आईं है ।चुन चुन कर वो चेहरे वेनकाब हो रहे है जो बर्षों से बॉलीवुड को अपनी जागीर बनाए बैठे थे । जो सिर्फ खास लोगों को ही ...
पालघर में हुई साधुओं की हत्या की जांच की मांग सीबीआई से कराने की मांग ने जोर पकड़ा ।
Uncategorized, संपादकीय

पालघर में हुई साधुओं की हत्या की जांच की मांग सीबीआई से कराने की मांग ने जोर पकड़ा ।

महाराष्ट्र के पालघर का नाम तव सुर्ख़ियों में आया था। जव लॉकडाउन के समय पालघर में साधुओं को पुलिस की मौजूदगी में घेरकर मार दिया गया । इस निर्मम हत्याकांड ने पूरे देश को झकझोर दिया।चारों ओर महाराष्ट्र सरकार की आलोचना होने लगी ओर पुलिस के रवैये पर भी सबाल खडे होने लगे । पुलिस ने आननफानन में कुछ लोगों को गिरफ्तार किया पर बाद में उन्हें भी जमानत मिल गई। सुशांत सिंह की मौत की जांच सीबीआई को मिल जाने के बाद एकबार फिर पालघर के हत्याकांड की गूंज सुनाई देने लगी है । चारों ओर से साधुओं की हत्या की जांच सीबीआई से कराने की मांग उठने लगी है। महामंडलेश्वर श्री अवधेशानंद जी महाराज ने पालघर के साधुओं की हत्या की जांच कराने की बात कही है। एकबार फिर देश की जनता पालघर के साधुओं को न्याय दिलाने के लिए सोशल मीडिया पर सक्रिय हो गये है । लॉकडाउन के चलते साधु संतों ने सरकार को बेवजह परेशान नहीं किया ओर अपन...
Uncategorized, संपादकीय

सीबीआई जांच से सुशांत की मौत से पर्दा उठने की आशा जागी

सुप्रीमकोर्ट के फैसले पर सभी की निगाहें लगी थीं क्योंकि मामला अकेले सुशांत की मौत का नहीं था मामला था एक विश्वास का जिसमें दो राज्यों की पुलिस की ऐंट्री होने से टकराव की स्थिति निर्मित हो चुकी थी इसके अलावा देशवासियों में एक विश्वास भी पैदा करना की अगर कोई किसी के साथ अन्याय करता है तो देश की अदालतें हैं। वह सही ओर गलत का निर्णय करने में सक्षम है । सुप्रीमकोर्ट के निर्णय से जहां सीबीआई का रास्ता साफ हुआ है वहीं दोनों राज्यों के बीच टकराव की स्थिति भी समाप्त हुई है ।अव मुंबई पुलिस कि जिम्मेदारी बढ जाती है की वह सीबीआई के साथ मिलकर सुशांत की मौत की गुथ्थी सुलझा कर अपनी धूमिल छवि को बापिस सुधार सकते है। दो माह से चल रहे इस मामले में सीबीआई के आ जाने से सभी खुश हें की आखिर सुशांत की मौत का सही कारण पता चल सकेगा ।क्योंकि जिस तरह की भूमिका इस केस में मुंबई पुलिस ओर महाराष्ट्र सरकार की दिखाई...
बेंगलुरु पर विपक्ष का मौन समझ से परे।
Uncategorized, संपादकीय

बेंगलुरु पर विपक्ष का मौन समझ से परे।

आज का भारत बदल रहा है ।ओर आज के नागरिकों कि सोच में परिवर्तन आया है । इतना ही नहीं ,वह सही ओर गलत का निर्णय, ही नहीं कर रहा बल्कि सही गलत पर अपने विचार भी बेबाकी से रख रहा है । वह किसी भी पार्टी य विचारधारा से जुडा हो पर जव सच बोलने की बारी आती है तो वह दम से सच वोलने का साहस करता देखा जा रहा है । पर यह बात आज के विपक्ष को समझ नहीं आ रही य वह समझना नहीं चाहता । ऐसे कई मामलों में विपक्ष की भूमिका निंदनीय रही है जिसे देश ने स्वीकार भी नहीं किया है ।किसी भी देश में विपक्ष की अहम भूमिका होती है वह सरकार का दूसरा हाथ होता है ।ओर सरकार के फैसलों की आलोचना भी करता है पर राष्ट्रहित के मुद्दों पर कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा भी रहता है । हम यदि हालही की घटना की बात करें तो बेंगलुरू कि घटना में विपक्ष ने एक बार फिर मौका खो दी जव वो गलत को गलत बोलने का साहस करती गलती कोई करे सभी को समान रुप से दंड...
शरीर में कोरोना वायरस को बढ़ने से रोकने वाली दवा मिली
देश विदेश

शरीर में कोरोना वायरस को बढ़ने से रोकने वाली दवा मिली

अमेरिकी रिसर्चर्स ने ऐसी का पता लगाया है जो संक्रमण के बाद शरीर में कोरोना वायरस की संख्या बढ़ने (रेप्लिकेट) से रोकेगी। यह दवा पहले से मौजूद है। अब इसे कोरोना के इलाज में इस्तेमाल किया जाएगा। दवा का नाम एब्सेलेन है। इसका इस्तेमाल बायपोलर डिसऑर्डर और सुनने की क्षमता घटने (हियरिंग डिसऑर्डर) के इलाज में किया जाता है। इस दवा पर नया रिसर्च अमेरिका की शिकागो यूनिवर्सिटी ने किया है। शोधकर्ताओं के मुताबिक- दवा से ऐसे एंजाइम्स को कंट्रोल किया जाएगा जो शरीर में कोरोना की संख्या को बढ़ाते हैं। मरीज की हालत नाजुक होने से रोका जा सकेगासाइंस एडवांसेस जर्नल में पब्लिश रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक- एम-प्रो नाम का एंजाइम कोरोनावायरस को रिप्लीकेट (वायरस की संख्या बढ़ना) होने से रोकने में बेहद मददगार है। यही RNA कोरोना का स्पाइक प्रोटीन बनाता है। एम-प्रो एंजाइम की मदद से कोरोना शरीर में संख्या बढ़ाता है।...
मोदी ने हेल्थ कार्ड योजना शुरू की:एक कार्ड में पूरी सेहत का रिकॉर्ड होगा, क्या बीमारी है, क्या जांच हुई और कौन सी दवा ली, सबका ऑनलाइन रिकॉर्ड रहेगा
राज्य समाचार

मोदी ने हेल्थ कार्ड योजना शुरू की:एक कार्ड में पूरी सेहत का रिकॉर्ड होगा, क्या बीमारी है, क्या जांच हुई और कौन सी दवा ली, सबका ऑनलाइन रिकॉर्ड रहेगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 74वां स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन (एनडीएचएम) की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि यह देश के स्वास्थ्य क्षेत्र में क्रांतिकारी साबित होगा। इसके तहत हर देशवासी को एक डिजिटल कार्ड मिलेगा। इससे आपको कई तरह की सुविधाएं मिलेंगी। जैसे- आपको क्या बीमारी है? आपने पहले किस डॉक्टर को दिखाया? आपने क्या जांच कराई? आपको क्या इलाज दिया गया? (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); इस योजना में कोई भी अपनी इच्छा से शामिल हो सकेगा। इसमें उसकी प्राइवेसी का विशेष ध्यान रखा जाएगा। पैसा जमा करना हो, अस्पताल में पर्ची बनवाने की भागदौड़ हो, इन परेशानियों से निजात मिलेगी। यह सब एक डिजिटल कार्ड से संभव हो सकेगा। सरकार ने एनडीएचएम के लिए 470 करोड़ रुपए के फंड को मंजूरी दी है। योजना में अभी ये 4 फीचर रहेंगे हेल्थ आईडी: देश के हर व्यक्त...
प्रशांत भूषण दोषी करार:चीफ जस्टिस और 4 पूर्व सीजेआई की अवमानना का केस
Uncategorized, राजधानी समाचार

प्रशांत भूषण दोषी करार:चीफ जस्टिस और 4 पूर्व सीजेआई की अवमानना का केस

सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना मामले में वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण को दोषी करार दिया है। प्रशांत ने चीफ जस्टिस एसए बोबडे और 4 पूर्व सीजेआई के खिलाफ ट्वीट किए थे। अब सजा पर 20 अगस्त को बहस होगी। सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की बेंच जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस कृष्ण मुरारी ने प्रशांत भूषण के ट्वीट्स पर फैसला सुनाया। बेंच ने कहा कि कंटेम्नर (अवमानना करने वाला) के खिलाफ जो आरोप हैं, वे गंभीर हैं। कोर्ट ने इस मामले को खुद नोटिस में लिया था। प्रशांत भूषण के इन 2 ट्वीट को अवमानना माना पहला ट्वीट: 27 जून- जब इतिहासकार भारत के बीते 6 सालों को देखते हैं तो पाते हैं कि कैसे बिना इमरजेंसी के देश में लोकतंत्र खत्म किया गया। इसमें वे (इतिहासकार) सुप्रीम कोर्ट खासकर 4 पूर्व सीजेआई की भूमिका पर सवाल उठाएंगे।दूसरा ट्वीट: 29 जून- इसमें वरिष्ठ वकील ने चीफ जस्टिस एसए बोबडे की ह...
ये कैसा धर्म !
Uncategorized, संपादकीय

ये कैसा धर्म !

बेंगलुरु ने एकबार फिर पूरी दुनिया को सोचने मजबूर कर दिया । ऐसा कैंसा धर्म है जो बात बात पर काटने ,मारने आगजनी करने ,तोडफ़ोड़ करने की इजाजत देता है ओर यदि धर्म इजाजत नहीं देता तो ये जाहिल धर्म का सहारा क्यों लेते है ओर इनके धार्मिक गुरु ओर पूरी कौम मुहूं बंद करके क्यों बैठी रहती है । धर्म तो करुणा का नाम है धर्म दया सिखाता है धर्म न्याय का मार्ग बताता है धर्म रक्षा करने की प्रेरणा देता है धर्म मानव के कल्याण कि कामना का नाम है । ओर यदि कोई धर्म यह नहीं सिखा पा रहा तो वह धर्म नहीं हो सकता । बेंगलुरु कि घटना की जितनी निन्दा की जाये वह कम है क्योंकि वहां जो कुछ हुआ वह एक तरह का षड्यंत्र है । यदि किसी व्यक्ति ने गलती की तो उसकी थाने मे रिपोर्ट होनी चाहिए यदि थाने में नहीं सुना जा रहा तो न्यायालय है ।पर ऐसा थोडी की तुम ही न्यायाधीश वन जाओ ओर पूरे शहर को आगजनी की चपेट में ले लो ।यह तो शुद...