Tuesday, September 29

धन्यवाद मध्यप्रदेश

कोरोना काल का सबसे बेकार रुप रहा मजदूरों का पलायन, राज्य सरकारों की नाकामी का परिणाम देश की भोलीभाली जनता ने सहा, उन्हें अपने घर पहचनें की बढी लम्बी कीमत चुकानी पडी पैरों मे छाले भूख से बेहाल ,लम्बी डगर ओर भीषण गर्मी उसी पर घटिया किस्म की राजनीति। कोई महाराष्ट्र से तो कोई गुजरात से तो कोई राजिस्थान से मध्यप्रदेश की ओर पलायन कर रहे थे इन्हीं मुसीबतों के बीच यात्रा सबकी ऐसी ही रही।

पर जव यह सुना की मध्यप्रदेश मे प्रवेश करते ही अन्य राज्यों की तुलना मे ज्यादा सख्ती नहीं थी ,पुलिस का व्यवहार भी सराहनीय रहा ओर सबसे से ज्यादा सुकून पहुंचने वाली बात तो यह थी ,यहां के लोगों को सेवा भाव वो देखते ही बनता है अन्य राज्यों से कष्ट सहकर मध्यप्रदेश मे मजदूरों ने सुकून महसूस किया ।धन्य है मध्यप्रदेश के सेवाभावी नागरिक जिन्होंने अपना फर्ज निभाया नहीं तो दिल्ली जैसा शहर ने तो मजदूरों को सडकों पर लाकर खडा कर दिया ओर महाराष्ट्र की तो मानों बर्षों पुरानी इच्छा पूरी हो रही हो जाओ जितने जल्दी जा सकते हो जाओ।आटो से ट्रक से डम्पर से किसी भी तरह शहर खाली करो।क्योंकि हाईवे पर जो बहानों की कतारें लगी थी वो तो यही वयं कर रही थी ।

मजदूरों का ध्यान रखने के निर्देश तो सीएम श्री शिवराज सिंह जी चौहान ने भी दे रखे थे करीब चौदह लाख मजदूर मध्यप्रदेश मे आ चुका ओर आना अभी जारी है तो धन्यवाद मुख्यमंत्री जी।धन्यवाद मध्यप्रदेश।

comments