Tuesday, October 27

प्रधानमंत्री ने नहीं किया आचार संहिता का उल्लंघन – चुनाव आयोग

नईदिल्ली| देश में लोकसभा चुनाव होने वाले हैं जिसकी तिथि चुनाव आयोग द्वारा तय कर दी गयी हैं जिसके चलते देश में आचार संहिता लागु हो चुकी हैं जिसके अंतर्गत कोई नेता किसी भी प्रकार की घोषणा नहीं कर सकता हैं लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा 27 मार्च को देश को सबोधित किया गया| जिसके चलते बिपक्ष ने तुरंत चुनाव आयोग में नरेन्द्र मोदी के खिलाफ शिकायत दर्ज की थी जिसके बाद चुनावायोग ने तुरंत ही एक समिति गठित की जिसकी अगुवाई आदर्श चुनाव आचार संहिता (एमसीसी) संभाग प्रभारी उपचुनाव आयुक्त संदीप सक्सेना कर रहे थे | उन्होंने तुरंत ही इस मामले की जाँच की जाँच में चुनाव आयोग ने इस पूरे मामले में प्रधानमंत्री को क्लीन चिट दे दी है। चुनावायोग ने प्रधानमंत्री को क्लीन चिट देते हुये कहा की मिशन शक्ति के बारे में संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन नहीं किया है। चुनाव आयोग के एक पदाधिकारी का कहना था, “कैबिनेट की सुरक्षा संबंधी समिति (सीसीएस) की बैठक हुई थी। उसके द्वारा लिए गए फैसले और आपदा प्रबंधन जैसे मसले आदर्श चुनाव आचार संहिता के दायरे में नहीं आते और उनकी पूर्व अनुमति जरूरी नहीं है।”

इसलिए की थी विपक्ष ने आयोग में शिकायत

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा था की देश के बैज्ञानिको ने एक नै तकनीक विकसित की हैं जो जमीन से 300 की.मी. दूर स्थित सेटेलाइट को मार गिरा सकता हैं जिसके बाद विपक्ष ने चुनाव आयोग को शिकायत कर कहा की प्रधानमंत्री का संबोधन आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करता है क्योंकि उन्होंने इसे सरकार की उपलब्धि के रूप में रेखांकित किया। यह मुद्दा राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा नहीं है।

comments