Tuesday, October 27

राहुल की योजना से वित्तीय अनुशासन धराशायी हो जाएगा

नईदिल्ली| राष्ट्रीय कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा लोकसभा चुनाव से पहले देश की गरीब लोगो को 72 हजार रूपए देने का ऐलान किया गया है राहुल गाँधी ने कहा की – अगर देश में कांग्रेस के सरकार आती हैं तो देश के 5 करोड़ गरीब परिवारों को 12 हजार रुपया महीना दिया जायेगा, राहुल गाँधी ने तो ऐलान कर दिया लेकिन क्या उन्होंने ये ऐलान करने से पहले सोचा के इतना पैसा कहा से आयेगा देश की आर्थिक स्थिति पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, देश के आर्थिक सलाहकारों का मानना हैं की अगर राहुल गाँधी की इस स्कीम पर अगर अमल किया जाता हैं तो ित्तीय अनुशासन धराशायी हो जाएगा. इस योजना से एक तरह से काम नहीं करने वालों को प्रोत्साहन मिलेगा. नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने ट्विट कर कहा की ‘कांग्रेस के पुराने रिकॉर्ड को देखा जाए तो वह चुनाव जतीने के लिए चांद लाने जैसे वादे करती रही है. कांग्रेस अध्यक्ष ने जिस योजना की घोषणा की है उससे राजकोषीय अनुशासन खत्म होगा, काम नहीं करने वाले प्रोत्साहित होंगे और यह कभी लागू नहीं हो पाएगा.’उन्होंने कहा कि न्यूनतम आय गारंटी योजना की लागत सकल घरेलू उत्पाद (GDP) का 2 फीसदी और बजट का 13 फीसदी होगी. इससे लोगों की वास्तविक जरूरतें पूरी नहीं हो पाएंगी. कुमार ने यह भी कहा कि कांग्रेस पार्टी ने चुनाव जीतने के लिए 1971 में गरीबी हटाओ का नारा दिया, 2008 में वन रैंक, वन पेंशन का वादा किया, 2013 में खाद्य सुरक्षा की बात कही लेकिन इसमें से कुछ भी पूरा नहीं कर सकी.

comments