Monday, November 30

निलंबन के बाद पंचायत सचिव ने की आत्महत्या

गंजबासौदा | ग्राम गंज में पिछले 3 दिनों से लापता सचिव का शव एक पेड़ से लटका हुआ मिला हैं,घटना की जानकारी लगने पर देहात थाना पुलिस ने मौके पर पहुचकर शव को बरामद कर उसका परीक्षण कराया और फिर शव को परिजनों के सुपुर्द कर दिया। पुलिस ने इस मामले में मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर के बैदनखेड़ी निवासी करीब 48 वर्षीय रामसिंह कुशवाह जनपद पंचायत में पंचायत सचिव थे। वे पिछले एक वर्ष से निलंबित चल रहे थे उनके निलंबन का कारण हरिपुर खैस्र्‌आ, बरमढ़ी और गौड़खेड़ी मार में पंचायत सचिव के रूप में पदस्थ रहते हुये शासकीय कार्य में लापरवाही बरतने पर उन्हें निलंबित कर दिया गया था और निलंबन अवधि में उनका मुख्यालय नटेरन जनपद पंचायत किया गया था। अपने निलंबन के बाद से ही रामसिंह कुशवाह परेशान रहते थे और इसी परेशानी के चलते गत 14 फरवरी की शाम को वह घर से बिना बताए कहीं चले गए थे। काफी खोजबीन के बाद भी जब उनका पता नहीं चला तो परिजनों ने 15 फरवरी को देहात थाने में उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी। इस रिपोर्ट के बाद परिजनों के साथ पुलिस भी उनकी तलाश में जुट गई थी। इसी बीच आज सुबह ग्राम गंज के ग्रामीणों से एक व्यक्ति का शव पेड़ पर फंदे से लटका होने की सूचना मिली। बही सूत्रों का कहना हैं कि रामसिंह कुशवाह ग्राम पंचायत खैरूआ, बरमढ़ी और गौड़खेड़ी मार में पंचायत सचिव रह चुके थे। गत वर्ष पंचायत खातों से राशि निकालने के बावजूद निर्माण कार्य न कराए जाने की शिकायत पर जिला पंचायत ने जांच कराई थी। इसके बाद गत वर्ष रामसिंह कुशवाह को निलंबित कर दिया गया था और निलंबन अवधि में उन्हें नटेरन जनपद पंचायत में अटैच किया गया था। बताया जाता है कि जांच में उनके खिलाफ सीसी रोड निर्माण, कूप निर्माण, मंगल भवन निर्माण आदि न कराने का आरोप था। अपने निलंबन के बाद श्री कुशवाह ने पिछले एक वर्ष में इनमें से अधिकांश कार्य पूर्ण भी करा दिए थे, लेकिन उनका निलंबन समाप्त नहीं हो रहा था। जिसके चलते इन्होने फासी लगा ली

comments