Tuesday, September 29

‘ज्ञानी’ हैं आतंकवादी, योग करें :राजनाथ

terrorists-are-gyani-should-practise-yoga-rajnath-singh-saysनई दिल्ली
केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को कहा कि आतंकवादियों के पास ज्ञान की कोई कमी नहीं है और वे ज्ञानी भी हैं। साथ ही, उन्होंने सुझाव दिया कि उन्हें समाज में रचनात्मक कार्य की दिशा में अपने ज्ञान का इस्तेमाल करने के लिए योग करना चाहिए।

योग के लाभ को साझा करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में सिंह ने कहा कि यह मानव व्यक्तित्व के समग्र और समन्वित विकास में मदद करेगा। उन्होंने कहा, ‘ज्ञान बहुत खतरनाक है। जो लोग आतंकवादी गतिविधियों में शामिल हैं, वे भी ‘ज्ञानी’ हैं। उनके पास ज्ञान की कमी नहीं है। आतंकवाद में ऐसे कई लोग हैं, जिनके पास भी ज्ञान है।’

सिंह ने कहा, ‘लेकिन ज्ञान का इस्तेमाल इस तरह से किया जाना चाहिए कि यह समाज के लिए मददगार हो, ना कि विध्वंसकारी। योग उस ज्ञान को नियंत्रित करने का काम करेगा।’ उन्होंने राजनीतिक दलों से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर विवाद पैदा नहीं करने की को भी कहा। यह कल देश विदेश में मनाया जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘योग जोड़ता है, बांटता नहीं है। मैं नहीं समझ पा रहा हूं कि क्यों लोग योग पर विवाद पैदा करना चाहते हैं। मैंने राजनीतिक पार्टियों से ऐसा नहीं करने को कहा है।’

गृह मंत्री ने कहा कि योग लोगों को लोगों से, धर्म को धर्म से और संस्कृति को संस्कृति से जोड़ता है। राजनाथ ने कहा, ‘जो इसका विरोध करते हैं उन्हें योग के बारे में विनम्रता से बताना चाहिए। उनके साथ लड़ने की कोई वजह नहीं है।’

सिंह ने कहा कि योग प्रकृति के साथ सौहार्द पैदा करता है न कि संघर्ष। ‘योग हमारी संस्कृति है। हमें इस पर गर्व होना चाहिए। हमारे संतों ने सदियों से इसे किया है और बढ़ावा दिया है। यह हमारी संस्कृति है और हमारी संस्कृति सांप्रदायिक नहीं हो सकती।’ राजपथ पर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस समारोह में करीब 40,000 लोगों के भाग लेने की उम्मीद है।

comments