Tuesday, September 29

सोनिया के खासमखास को राहुल ने दिया झटका

ahmed-patel-535de25cae1db_exlstगुजरात कांग्रेस में दो दशक से चला आ रहा अहमद पटेल युग आखिरकार खत्म हो गया। पटेल के धुर विरोधी माने जाने वाले भरत सिंह सोलंकी की प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति होना इसका प्रमाण है। कांग्रेस के अंदरूनी सूत्रों के अनुसार, सोलंकी के फिर प्रदेश अध्यक्ष बनने के पीछे सबसे बड़ा कारण उनका अहमद पटेल का धुर विरोधी होना है।

पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार के तौर पर कांग्रेस में छाए रहे पटेल स्वाभाविक रूप से उन सभी निर्णयों में भी पूरी तरह हावी रहे, जो देशव्यापी थे, लेकिन गुजरात में उनकी तूती कुछ इस तरह बोलती रही कि पिछले दो दशक में प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति से लेकर स्थानीय निकायों के चुनाव में बांटे गए टिकटों में पटेल का निर्णय अंतिम रहा।

इस दौरान लड़े गए पांच विधानसभा चुनाव, पांच लोकसभा चुनाव और कई स्थानीय निकायों के चुनाव में पटेल के ही लोगों को टिकट मिलता रहा। संगठन में भी पटेल के ही वफादारों को पद प्राप्ति होती रही लेकिन फिर भी वह गुजरात में कांग्रेस की सत्ता में वापसी करवाने में असफल रहे

comments