Monday, September 21

रायसेन-मौसममें आए बदलाव से खेतों में सिंचाई करने जुटे किसान

kisanमौसममें आए बदलाव से अब सूर्य की किरणें तेज हो गई हैं, जिससे फसलें मुरझाने लगी हैं। ऐसे में किसानों को फसलों में सिंचाई करने के लिए जुटना पड़ा है। इस समय प्रत्येक खेत में सिंचाई का कार्य चल रहा है। सुबह से लेकर देर रात तक किसान खेतों में ही दिखाई दे रहे हैं।

जिले भर में करीब 4 लाख 34 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में बोवनी की गई है, जिसमें से सबसे ज्यादा 2 लाख 75 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में गेहंू की बोवनी हुई है। शेष रकबे में चना, मसूर, तेवड़ा सहित अन्य फसलों की बोवनी की गई है। कई स्थानों पर फसलें पकने की स्थिति में हैं तो कहीं पर फसलों में दाना भर रहा है। अच्छी पैदावार लेने के लिए किसानों ने सिंचाई करना शुरू कर दिया है। कुचवाड़ा के किसान केशव राठी और ब्रजकिशोर राठी का मानना है कि इस समय सूर्य की किरणें तेज होने से खेतों में नमी कम हो गई है। इस कारण फसलें मुरझाने लगी हैं।फसलों को पर्याप्त पानी मिलने से उनमें ग्रोथ हो सकती है, इसलिए फसलों में सिंचाई करना जरूरी हो गया है। सिंचाई के बाद ही फसलों में ग्रोथ संभव है।

धूप तेज होने से इन दिनों किसान फसलों की सिंचाई में जुटे हुए हैं।

^तेज धूप से खेतों में नमी कम हो जाती है, जिससे फसलों को सिंचाई की आश्यकता होती है। फसलों को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी मिलने से अच्छा ग्रोथ होता है। इस कारण किसानों को सिंचाई करना चाहिए। जेपीगुप्ता, सहायक संचालक कृषि रायसेन

तीन दिन से लगातार तापमान बढ़ रहा है। दिन का अधिकतम तापमान 30 डिग्री और रात का न्यूनतम तापमान 15 डिग्री पर गया है। दिन और रात का तापमान बढ़ने से लोगों को गर्मी का अहसास होने लगा है। हालांकि अभी सुबह और शाम को सर्दी का अहसास हो रहा है

comments