Monday, September 21

दोनों यादवों की भाषा एक-सी

Yadav copy

भोपाल। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव और मध्यप्रदेश के गृहमंत्री बाबूलाल (यादव) गौर की अपराधों को लेकर मानशिकता एकसी दिखाई देती है। खास कर बलात्कारियों के प्रति इन दोनों यादव नेताओं का नजरिया भी एक-सा दिखाई देता है।
बदायूं की घटना हो या मुंबई रेप काण्ड पर जिस तरह से मुलायम सिंह यादव बलात्कारियों के प्रति सहानभूति बाला नजरिया अखतियार करते दिखते हैं उससे ऐसा लगा है कि मुलायम सिंह यादव की निगाह में बलात्कार कोई बहुत बड़ा अपराध नहीं है इसीलिए उत्तर प्रदेश में हो रहे अपराधों को लेकर मुलायम सिंह यादव कभी गंभीर दिखाई नहीं दिए। उत्तर प्रदेश से मध्यप्रदेश आए बाबूलाल गौर पटवा सरकार में अपने काम को लेकर जनता के चहेते बने उन्होंने इस तहर अतिक्रमण हटाओ मुहीम चला कर बुल्डोजर मंत्री के रूप में पहचाने जाने लगे। वर्तमान में गृहमंत्री रहते बाबूलाल गौर जिस तरह से अपराधों को लेकर गैर जिम्मेदार बयान देते हैं उससे दोनों ही यादवों की भाषा एक सी दिखाई देती है। उम्रदर्जा हो चुके बाबूलाल गौर के मुहं से इस तरह की भाषा से निश्चित ही समाज में एक अच्छा संदेश नहीं जाता। वैसे इस समय देश में बुजुर्ग नेताओं ने अश्लीलता की सारी हदें पार कर रखीं हैं। चाहे अपने महिलाओं के प्रति प्रेमप्रसंगों को लेकर या फिर अपनी बाणी से गैर जिम्मेदार भाषा को लेकर कभी पहनाबे को कर ब्यान देते हैं तो कभी अपराधियों को बचाने के लिए ब्यान देते हैं। इससे समाज में इन राजनेताओं के प्रति आक्रोष बड़ता जा रहा है, ऐसे में इन बुजुर्ग नेताओं को राजनीति से अलग करके इनकी जगह युवाओं को अवसर मिलना चाहिए।

comments