दिनांक 20 October 2018 समय 10:39 AM
Breaking News

AAP कोला की डिमांड विदेशों में भी बढ़ी

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

aapनई दिल्ली

केजरीवाल कैबिनेट के शपथ ग्रहण समारोह में सॉफ्ट ड्रिंक की 20 हजार बोतलें मुफ्त बांटकर चर्चा में आए AAP Cola का ब्रांड प्रमोशन ऐसा हुआ कि विदेश से भी इसकी डिमांड आने लगी है। तीन दिन में ही बिजनस इन्क्वायरी कई गुना बढ़ गई है। हालांकि, दिलचस्प बात यह है कि आम आदमी को किफायती सॉफ्ट ड्रिंक मुहैया कराने का दावा करने वाली इस कंपनी का प्रॉडक्ट कभी रईसों की महफिल में भी जाता था।

ग्रेटर कैलाश की फर्म एसबीएस प्रिंस बेवरेज प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर यश टेकवानी ने बताया, ‘कंपनी की शुरुआत 1960 के दशक में प्रिंस पान के बैनर तले मेरे पिता भगवान दास टेकवानी ने की थी। 80 के दशक तक यह लग्जरी पान बॉलिवुड स्टार्स से लेकर बड़े रईसों की पसंद बन चुका था। हमने अनिल अंबानी से लेकर ऋषि कपूर तक की शादी में अपना पान सर्व किया था। उसके बाद हमने प्रिंस कोला के साथ बेवरेज में कदम रखा। इसकी लोकल मार्केट में अपनी पहचान है। हालांकि अन्ना और केजरीवाल के आंदोलनों के संपर्क में आने के बाद हमने इसे नया नाम देने का फैसला किया। AAP कोला की औपचारिक लॉन्चिंग 23 फरवरी को होगी, लेकिन एक दर्जन प्रिंस कोला स्टोर्स पर यह उपलब्ध है।’

AAP का मतलब आम आदमी पार्टी निकाला जा सकता है, लेकिन बिजनास टर्म्स में इसका फुल फॉर्म ‘आपका अपना प्रिंस’ है। टेकवानी ने बताया, ‘रामलीला मैदान में सर्व करने के बाद हमारी बिजनस इन्क्वायरी कई गुना बढ़ गई है। सऊदी अरब, अमेरिका और यूरोप के डिस्ट्रिब्यूटर्स ने भी कॉन्टैक्ट किया है। अभी हम इसे चार फ्लेवर- कोला, ऑरेंज, लेमन और सरप्राइज में लॉन्च करेंगे, लेकिन जल्द ही इसे बढ़ाएंगे।’ यह पूछे जाने पर कि इस ब्रांड के लिए क्या कंपनी ने कोई एक्सपैंशन प्लान बनाया है, टेकवानी ने कहा, ‘पांच साल दिल्ली में फोकस करेंगे। अरविंद जहां जाएंगे, हम इसे भी वहां ले जाएंगे।’ हालांकि उन्होंने इनकार किया कि कंपनी किसी भी रूप में पार्टी से जुड़ी है।

इसका ऑफिस ग्रेटर कैलाश-1 में है, लेकिन मैन्युफैक्चरिंग नोएडा में होती है। कंपनी ने फूड सेफ्टी लाइसेंस लिया है। उसका दावा है कि क्वॉलिटी में यह ड्रिंक एमएनसी ब्रैंड्स से कम नहीं है, लेकिन कीमत में उनके मुकाबले करीब एक तिहाई है। 400 एमएल की बोतल 15 रुपये में दी जा रही है। टेकवानी के मुताबिक, ‘बड़ी कंपनियां प्रमोशन पर खर्च करती हैं और इसे कीमत में जोड़ती जाती हैं, लेकिन हमने प्रमोशन का सोशल रास्ता पकड़ा है

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top