दिनांक 17 November 2018 समय 7:57 AM
Breaking News

व्यापमं घोटाले पर बोले शिवराज, आरोप सच हुए तो संन्यास ले लूंगा

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

shivrajभोपाल
व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) द्वारा सरकारी नौकरियों में भर्ती और प्रफेशनल कोर्सेज के एंट्रेंस से जुड़े कथित घोटाले को लेकर विपक्ष के निशाने पर आने के बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अगर उनके खिलाफ लगाए गए आरोप सही साबित हुए तो वह राजनीति से संन्यास ले लेंगे।

शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को व्यापमं मामले में कांग्रेस पर उनकी छवि खराब करने का आरोप लगाया। उन्होंने व्यापमं घोटाले में सख्त कार्रवाई की बात को दोहराते हुए कहा कि कांग्रेस इस मसले में उन पर और उनके परिवार पर गलत आरोप लगा रही है। उन्होंने कहा कि वह गुरुवार को इस मुद्दे पर विधानसभा में जवाब देंगे।

शिवराज ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में अपने और परिवार के ऊपर लग रहे आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि मैं अपनी पूरी बात आपके सामने नहीं रख रहा। उन्होंने कहा, ‘मैं उम्मीद करता हूं कि कल (गुरुवार) मुझे विधानसभा में अपनी बात रखने का मौका दिया जाएगा। मेरे पास कांग्रेस के आरोपों का पूरा जवाब है और मुझे उम्मीद है कि कांग्रेस भी मेरे सवालों का जवाब देगी।व्यापमं घोटाला मामले में बुधवार को स्थगन प्रस्ताव पर चर्चा की मांग मंजूर होने के बाद विपक्ष ने किनारा कर लिया। स्थगन प्रस्ताव पर बहस के लिए सीएम की रजामंदी के बाद विधानसभा अध्यक्ष ने प्रस्ताव पढ़कर सुनाया और उसे बहस के लिए मंजूर कर लिया, लेकिन विपक्ष के नेता समेत अन्य सदस्य प्रश्नकाल चलाने को लेकर तर्क देते रहे। सीएम ने कहा कि कांग्रेस हमेशा से इस पर चर्चा से बचती रही है। उन्होंने कहा कि चर्चा कराने की अपनी ही मांग के मंजूर होने के बाद विपक्षी सदस्य इसके लिए तैयार नहीं दिखे और कन्नी काटने लगे।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सदन में विपक्ष की मांग को मानते हुए कहा था कि सत्ता पक्ष बहस के लिए तैयार है, क्योंकि इस मामले में विपक्ष पिछले कई दिनों से आरोप लगा रहा है और इससे भ्रम का वातावरण बन गया है। बीजेपी विधायकों ने भी आरोप लगाया था कि मांगें माने जाने के बाद अब विपक्ष भागने की फिराक में है।

मध्य प्रदेश के व्यापमं भर्ती घोटाले में कांग्रेस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह पर गंभीर आरोप लगाए हैं। कांग्रेस ने यह भी कहा है कि इस घोटाले में मुख्यमंत्री के रिश्तेदारों के साथ-साथ कई सीनियर आईएएस और आईपीएस ऑफिसर शामिल रहे हैं।

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश की कई परीक्षाओं में कैंडिडेट्स को पास कराने के लिए कई स्तर पर घोटाले की आशंका है। हाई कोर्ट की निगरानी में एसटीएफ मामले की जांच कर रही है। इस मामले में मध्य प्रदेश में बड़े पैमाने पर गिरफ्तारियां हुई हैं

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top