दिनांक 16 November 2018 समय 6:00 PM
Breaking News

रेल बजट: नई घोषणाएं किए जाने की भी संभावना

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

suresh-prabhu-may-skip-big-bang-reformsनई दिल्ली

रेलवे की वित्तीय खस्ताहाली के बीच रेल मंत्री सुरेश प्रभु आज अपना पहला बजट पेश करेंगे, जिसमें किराए पर नजर होगी। साथ ही लोग यह भी देखेंगे कि बजट सेवाओं में सुधार, सुरक्षा और साफ सफाई के लिए क्या पहल की जा रही है। बजट में नई सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ पहल से जुड़े प्रस्ताव शामिल किए जाने की भी संभावना है। माना जा रहा है कि सुरेश प्रभु बड़े फैसले लेने से बचेंगे।

जानिए, क्या हो सकती हैं रेल बजट में नई घोषणाएं:
1- ऑडी सब्सिडी को घटाने पर विचार
प्रभु माल भाड़े को ऊंचा कर यात्री सेवाओं को सस्ता रखने की ‘ऑडी सब्सिडी” को घटाने के बारे में योजना का खुलासा कर सकते हैं। रेलवे में ऑडी सब्सिडी 24,000 करोड रुपये तक पहुंच गई है।
क्यों है महत्वपूर्ण

– वर्तमान रेल बजट इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि नौ महीने पहले सत्ता में आई मोदी सरकार ने रेलवे की कुछ बड़ी परियोजनाओं में 100 फीसदी तक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) को मंजूरी दी है।

– भारतीय रेलवे की अधिशेष भूमि पर एक विजन स्टेटमेंट भी बहुप्रतीक्षित है। वर्तमान बजट ऐसे समय में आ रहा है, जब भारतीय रेलवे की स्थिति बेहद बदतर हो चुकी है, जिसे ऑपरेटिंग अनुपात के रूप में मापा जाता है।

– स्वतंत्र तौर पर कराए गए सर्वेक्षण के मुताबिक, 74 फीसदी लोग बेहतर सेवा के पक्षधर हैं और वे ज्यादा रेलगाड़ियां चलाने के पक्ष में नहीं हैं। वहीं स्वच्छ भारत अभियान के बावजूद 78 फीसदी लोग रेलवे में गंदगी से परेशान हैं।

– भारत दुनिया का सबसे बड़ा तथा पुराना रेल नेटवर्क है। यह रोजाना 2.3 करोड़ लोगों को अपने गंतव्य तक पहुंचाता है और 20.65 लाख टन माल ढोता है।

– भारतीय रेल कुल 7,172 रेलवे स्टेशनों पर अपनी सेवाएं प्रदान करता है। देश भर में कुल 12,617 यात्री रेलगाड़ियां और 7,421 मालगाड़ियां चलती हैं।

– रेल बजट से एक दिन पहले बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) में रेल का डिब्बा बनाने वाली कंपनी टेक्समेको रेल एंड इंजिनियरिंग के शेयर में 2.90 फीसदी की कमी दर्ज की गई। डिब्बा बनाने वाली अन्य कंपनी जैसे टीटागढ़ वैगन्स के शेयर में 6.19 फीसदी की कमी दर्ज की गई।

2- ‘स्वच्छ भारत अभियान’
इसके तहत रेल बजट में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिये जाने की संभावना है और इसके लिए सभी डिब्बों में कूडादान रखने के अलावा 100 और रेलगाडियों में ‘चलती ट्रेन में साफ-सफाई की सुविधा’ का विस्तार किये जाने के प्रस्ताव जैसे उपाय किये जा सकते हैं।

3-‘क्लीन ट्रेन स्टेशन स्कीम’ और ‘मेक इन इंडिया’ पहल
इसके तहत ट्रेन और स्टेशनों पर जैव-शौचालय स्थापित किए जा सकते हैं। बजट में मोदी सरकार की ‘मेक इन इंडिया’ पहल के तहत 200 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चलने वाली ट्रेनों के लिए रेलवे के चेन्नई कारखाने में उपयुक्त डिब्बों के विनिर्माण की योजना की भी घोषणा की जा सकती है। 100 स्टेशनों का फिर से विकास, बाजार परिसरों के निर्माण के लिये खाली जगहों का उपयोग तथा अन्य वाणिज्यिक परियोजनाओं के बारे में बजट में जिक्र किया जा सकता है

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top