दिनांक 13 December 2018 समय 1:07 PM
Breaking News

शिवराज ने उमा को फंसाया’-व्यापमं घोटाले में बड़ा आरोप

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

su

 

भोपाल
मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान सरकार पर कांग्रेस ने व्यापमं घोटाले में बड़ा आरोप लगाते हुए कई सबूत पेश किए हैं। कांग्रेस ने इस एजुकेशन स्कैम में शिवराज सिंह चौहान के सीधे तौर पर शामिल होने का आरोप लगाया है। कांग्रेस ने कहा कि प्रदेश की शिवराज सरकार ने तथ्यों को बदल जांच समिति को सौंपा है।

सुप्रीम कोर्ट के वकील केटीएस तुलसी ने कहा इस मामले में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। तुलसी ने कहा एक्सल शीट और हार्ड डिस्क में कई गड़बड़ियां हैं। उन्होंने कहा कि कंप्यूटर की जिस हार्ड डिस्क को सीज किया गया उसे ही बदल दिया गया है। तुलसी ने कहा कि एक ही हार्ड डिस्क को दो बार कब्जे में कैसे लिया गया? तुलसी के मुताबिक इस मामले में गठित एसआईटी का कहना है कि डुप्लिकेट हार्ड डिस्क बनाई गई है। कांग्रेस ने पूछा है कि आखिर ऐसा क्यों किया गया?

तुलसी ने कहा कि ऑरिजनल एक्सल शीट में 131 नाम थे। इन नामों में 48 जगह मुख्यमंत्री के नाम थे लेकिन इन नामों पर कई जगह सीएम के नाम की जगह मंत्री, उमा भारती, राजभवन और एमएस लिख दिया गया। उन्होंने कहा कि पहले 10 बार उमा भारती के नाम थे लेकिन शिवराज सिंह का नाम हटाकर 17 बार उमा भारती के नाम कर दिए गए।लसी ने कहा कि एक्सल शीट में कई एंट्री मिनिस्टर टु, मिनिस्टर थ्री के नाम से थी, लेकिन इन्हें हटाकर केवल मिनिस्टर कर दिया गया। उन्होंने कहा कि पूरी एक्सल शीट ही बदल दी गई। तुलसी ने कहा कि तथ्यों के साथ छेड़छाड़ एक संगीन अपराध है।

सोमवार को भोपाल में इस मामले पर प्रदेश के सभी बड़े कांग्रेस नेताओं ने केटीएस तुलसी के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस पीसी में दिग्विजय सिंह, कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत प्रदेश के कई बड़े नेता शामिल थे।

दिग्विजय सिंह ने नई एक्सल शीट जारी की जिसमें 48 जगहों पर शिवराज का नाम है। दिग्विजय सिंह का दावा है कि वास्तविक शीट यही है जिसे उन्होंने एसआईटी के सामने रखा है और शपथ पत्र देकर रखा है। दिग्विजय सिंह का कहना है इसी शीट के आधार पर पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत को गिरफ्तार किया गया इसलिए शिवराज को गिरफ्तार किया जाये और वह इस्तीफा दें। दिग्विजय ने कहा की वक़्त आने पर बता देंगें ये एक्सल शीट कहां से निकाली गई है।

दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘व्यापमं की चार्जशीट एक एक्सल शीट पर आधारित है। इस मामले में नितिन महिंद्रा का लैपटॉप सीज किया गया था। इसी की हार्ड डिस्क पर इस स्कैम की जांच हो रही है। लेकिन हार्ड डिस्क लैपटॉप की है कंप्यूटर की अब तक नहीं बताया गया। इसी एक्सल शीट पर लक्ष्मीकांत शर्मा जेल में एक साल बंद हैं लेकिन असल गुनाहगार प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हैं।’

दिग्विजय सिंह ने शिवराज सिंह चौहान से इस्तीफा मांगा है। सिंह ने शिवराज सिंह को चुनौती देते हुए कहा कि या तो मेरे ऊपर कार्रवाई हो या शिवराज सिंह इस्तीफा दें। सिंह ने कहा कि इस पूरे प्रकरण में एक लाख से ज्यादा लोगों की फर्जी नियुक्तियां हुई हैं।

कांग्रेस नेता कमलनाथ ने कहा कि यह मध्य प्रदेश और देश का सबसे बड़ा घोटाला ही नहीं है ब्लकि प्रदेश के नौजवानों के साथ धोखाधड़ी है। किस तरह एक हार्ड डिस्क को डुप्लिकेट हार्ड डिस्क बना दिया गया। उन्होंने कहा कि एसआईटी डुप्लिकेट हार्ड डिस्क की जांच कर रही है। ऐसे में सचाई कैसे सामने आएगी? कमलनाथ ने कहा कि सचाई को सामने लाने के लिए सीएम अपने पद से इस्तीफा दें।

कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि इससे बड़ा कोई मुद्दा प्रदेश का नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि यह मुद्दा प्रदेश के भविष्य से जुड़ा है। सिंधिया ने पूछा कि सरकार ही प्रदेश के नौजवानों के साथ धोखाधड़ी कर रही है। उन्होंने कहा कि शिवराज सरकार एक झूठ को छुपाने के लिए 100 झूठ बोल रही है। सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर इस मामले में जांच हो रही है, ऐसे में हम न्याय की उम्मीद नहीं कर सकते।

इन आरोपों पर बीजेपी के प्रवक्ता हितेश वाजपेयी ने कहा कि कांग्रेस पहचान के संकट के जूझ रही है इसलिए बेबुनियाद आरोप लगाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मामला अदालत में विचाराधीन है और इस पर हम किसी तरह की टिप्पणी नहीं कर सकते। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री पारदर्शिता के साथ जांच करवा रहे हैं। चौहान ने कहा कि एसटीएफ बिल्कुल निष्पक्षता से जांच कर रही है

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top