दिनांक 28 May 2018 समय 8:37 AM
Breaking News

अन्ना आंदोलन-लोगों में बहुत कम जोश

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

नई दिल्ली

Anna-and-Kejriwal

 

ak ad

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आज जंतर-मंतर आकर अन्ना हजारे के साथ भूमि अधिग्रहण बिल के खिलाफ धरना देंगे । केजरीवाल के साथ उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी होंगे। गौरतलब है कि समाज सेवी अन्ना हजारे के धरने के पहले दिन जंतर-मंतर पर लोगों में बहुत कम जोश देखने को मिला। दोपहर तक भीड़ काफी ज्यादा थी, लेकिन धीरे-धीरे लोग कम हो गए।

यूं तो अन्ना पहले कई बार कहते रहे हैं कि उनके मंच पर किसी राजनेता को जगह नहीं मिलेगी, मगर केजरीवाल को लेकर उनका रुख बदला हुआ है। उन्होंने कहा था कि अगर केजरीवाल उनके समर्थन में आते हैं तो उन्हें कोई दिक्कत नहीं है। सूत्रों का कहना है कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल मंगलवार को जंतर-मंतर पहुंचकर धरने में शिरकत करेंगे।

अन्ना के आंदोलन की कई यादें सोमवार को जंतर-मंतर पर देखने को मिली। केंद्र सरकार के खिलाफ भूमि अधिग्रहण अध्यादेश को वापस लेने के मुद्दे पर अन्ना हजारे दो दिन के धरने पर हैं। सोमवार को पहले दिन उन्होंने पब्लिक और समर्थकों के साथ किसान संगठनों का शुक्रिया अदा किया। इसके साथ ही मंगलवार को धरने की रणनीति भी कार्यकर्ताओं को बताई।

उन्होंने कहा कि मंगलवार को पदयात्रा पर निकले 6 हजार किसान जंतर मंतर पर पहुंचेंगे। सोमवार को दोपहर 12.20 पर अन्ना जंतर मंतर पर पहुंचे थे। उनके पहुंचते ही वह लोगों की भीड़ से घिर गए। वहीं अपने-अपने मुद्दों के लिए महीनों से धरने पर बैठे लोग भी स्टेज पर उनसे मिलने पहुंचे। वहीं, कई लोग अन्ना के साथ सेल्फी खिंचते हुए भी दिखे। राजस्थान, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और कई राज्यों से समर्थक जंतर मंतर पहुंचे। दोपहर 2 बजे तक लोगों की भीड़ काफी दिखी, लेकिन इसके बाद लोगों की संख्या कम होती चली गई।

ये पांच हुए बड़े बदलाव

दो मंच बनाए गए: 2011 में अन्ना आंदोलन के वक्त कुमार विश्वास अपनी कविताओं से लोगों जागरूक करते रहे थे। इस बार अन्ना के धरने के लिए दो मंच तैयार किए गए थे। एक मंच पर अन्ना अकेले बैठे थे। वहीं, दूसरे मंच कई संगठन और धरने पर आए वक्ता अपना भाषण दे रहे थे।

अन्ना ब्रैंडिंग हिट: इस बार का धरना कई मायनों में अलग है। समर्थक और कार्यकर्ता अन्ना टी-शर्ट पहने नजर आए। इस टी-शर्ट को समर्थक जंतर मंतर पर बांट रहे थे।

रजिस्ट्रेशन प्रोसेस: अन्ना समर्थकों ने मंच से कुछ दूरी पर एक कैंप लगाया हुआ था। यहां पर लोगों को कार्यकर्ता के तौर पर रजिस्टर किया जा रहा था। रजिस्ट्रेशन के बाद अन्ना के आंदोलन की जानकारी लोगों के मोबाइल पर मेसेज के जरिए पहुंच जाएगी। सोमवार को समर्थक विक्रांत ने बताया कि करीब 2 हजार लोगों ने रजिस्टर करवाया है।

नहीं मिला यूथ का सहारा: भ्रष्टाचार को खत्म करने जैसे मुद्दे पर युवाओं ने अन्ना का बहुत समर्थन किया था। इस बार यूथ आंदोलन से गायब नजर आया

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top