दिनांक 27 May 2018 समय 6:38 AM
Breaking News

जासूसी प्रकरण में सनसनीखेज खुलासे

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

Arun-Jaitley-04-1424495469नई दिल्ली। मंत्रालयों में जासूसी प्रकरण में सनसनीखेज खुलासे हो रहे हैं। वित्त मंत्री के बजट भाषण के अंश भी लीक हुए दस्तावेज में शामिल हैं। पुलिस ने इनकी फोटोकॉपी जब्त की है। बरामद हुई तीन डायरियों से ये राजफाश हुआ है। इसमें कई अहम नाम और फोन नंबर दर्ज हैं। जांच में पता चला है कि पेट्रोलियम ही नहीं वित्त, कोयला और रक्षा मंत्रालय में भी सूचनाएं लीक हुई हैं।

इस बीच दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार देर शाम तेल और प्राकृतिक गैस व्यवसाय से जुड़ी नामी कंपनियों के 5 अधिकारियों को गिरफ्तार किया है। सुबह निजी ऊर्जा सलाहकार कं पनियों के दो एक्जीक्यूटि्व सहित इस मामले में अब तक 12 गिरफ्तारियां हो चुकी हैं। संभावना है कि अब इस मामले में ऑफिशियल सीक्रेट्स एक्ट की धाराएं भी जोड़ी जा सकती हैं। पुलिस ने आरआईएल के शैलेष सक्सेना, एस्सार के विनय कुमार, केयन्र्स के केके नाईक, जुबिलेंट एनर्जी के सुभाष चंद्रा और रिलायंस एडीएजी के ऋषि आनंद को गिरफ्तार किया है।

ऎसे होता था खेल:-
-कई चरणों के जासूसी के खेल में चपरासी पहली कड़ी।
-चपरासी बाबूओं को दस्तावेज या कॉपी मुहैया कराता था।
-बाबू ये दस्तावेज कॉरपोरेट बिचौलियों तक पहुंचाते थे।
-बिचौलिए इनका विश्लेषण कर कॉरपोरेट घराने को रिपोर्ट देते।

ये भी बरामदगी:-
-तेल व गैस मंत्रालय की उत्खनन रिपोर्ट।
-पीएम के प्रमुख सचिव नृपेंद्र मिश्रा का पत्र।

रिलायंस के शेयर गिरे:-
जासूसी प्रकरण में रिलायंस के कर्मचारी की गिरफ्तारी के बाद शुक्रवार को शेयर 3 फीसदी तक गिर गए। 897 पर खुले शेयर 872 रूपए पर बंद हुए। रिलायंस का कृष्णा बेसिन गैस मामले में तेल मंत्रालय से विवाद चल रहा है।

दो एक्जीक्यूटि्व भी धरदबोचे:-
शुक्रवार को पुलिस ने निजी ऊर्जा सलाहकार कंपनी मीटिस इंडिया के सीईओ प्रयास जैन और इंडियन पेट्रो के शांतनु सैकिया को गिरफ्तार किया। मीटिस इंडिया का मुख्यालय मेलबर्न में है। जबकि सैकिया पत्रकार रह चुका है।

मासिक गैस रिपोर्ट भी शामिल:-
पुलिस सूत्रों के अनुसार आरोपितों से राष्ट्रीय गैस ग्रिड के दस्तावेज भी मिले हैं। इनमें 16 फरवरी की मासिक गैस रिपोर्ट भी शामिल है। प्राकृतिक गैस से संबंधित दस्तावेज को कॉरपोरेट घरानों तक पहुंचाया गया।

चार पुलिस रिमांड पर:-
दिल्ली के मेट्रोपोलेटिन कोर्ट ने प्रयास जैन, शांतनु सैकिया, राकेश कुमार और लालता प्रसाद को पुलिस रिमांड पर सौंपा है। जबकि आशाराम, ईश्वर सिंह और राजकुमार चौबे को 14 दिन की न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा गया है

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top