दिनांक 27 April 2018 समय 2:10 PM
Breaking News

भिंड. भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष मनोज शिवहरे के भाई पवन शिवहरे की हत्या पुरानी रंजिश को लेकर की गई

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

muder-in-bhind_1424283375 oo ppp yyyyyyyyyभिंड. भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष मनोज शिवहरे के भाई पवन शिवहरे की हत्या पुरानी रंजिश को लेकर की गई है। मृतक पक्ष का आरोपियों के साथ मंगलवार रात को भी झगड़ा हुआ था, जिसके बाद आरोपी धमकी देकर गए थे कि अगले दिन देख लेंगे। इसी पर उन्होंने बुधवार दोपहर को आकर पवन शिवहरे की गोली मार हत्या कर दी। हत्या के बाद शहर के व्यापारी एकजुट हो गए। उन्होंने दिनदहाड़े की गई मोबाइल दुकानदार की हत्या के बाद सुरक्षा व्यवस्था पर सवालिया निशान उठाए। साथ ही, आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार कराने की मांग के लिए शव रखकर परेड चौराहे पर चक्काजाम कर दिया। हालांकि एएसपी अमृत मीणा मौके पर पहुंचे। एएसपी ने परिजन को आश्वासन दिया कि पुलिस जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लेगी, तब जाकर कहीं चक्काजाम खोला गया।डॉक्टर से झूमाझटकी, लगाया रिश्वत का आरोप 
जिला अस्पताल में जब मृतक पवन शिवहरे का पोस्टमार्टम किया जा रहा था, तब परिजन ने पीएम करने वाले डॉक्टर आरके अग्रवाल के साथ झूमाझटकी कर दी। परिजन का आरोप था कि डॉक्टर ने आरोपी पक्ष से रुपए ले लिए हैं और वे उनके पक्ष में ही रिपोर्ट बनाकर देंगे। हालांकि डॉ. अग्रवाल ने इस बात से इंकार किया। बाद में सिविल सर्जन डॉ. केके दीक्षित और कोतवाली टीआई दामोदर गुप्ता ने मौके पर पहुंचकर हालात काबू किए।

यह है हत्या की वजह 
एएसपी अमृत मीणा ने बताया कि प्रथम दृष्टया जो सामने आया है, उसके अनुसार मृतक पवन शिवहरे के तीसरे व चौथे नंबर के भाईयों का किसी से अफेयर चल रहा था। इसी का शंभू शास्त्री व सुनील कोरी ने विरोध किया था। जिसको लेकर मंगलवार रात इनके बीच विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ा कि मृतक पक्ष के लोगों ने आरोपी शंभू शास्त्री की मां तक को चांटा मार दिया। इसी पर से शंभू शास्त्री और सुनील कोरी ने धमकी दी थी कि वे अगले दिन सुबह देख लेंगे।
मृतक का भाई बोला: रुपए लेकर कराया राजीनामा 
मृतक के भाई रमन शिवहरे ने जिला अस्पताल में पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि शंभू शास्त्री से हमारा पहले से विवाद चल रहा था। छह माह पहले भी इन लोगों ने हमारी मोबाइल दुकान पर आकर हमला कर दिया था, जिसकी पुलिस को शिकायत की थी। उस समय कोतवाली टीआई दामोदर गुप्ता ने रुपए लेकर हमारा राजीनामा कराया था। अगर वे राजीनामा नहीं कराते, तो आज ये नौबत नहीं आती।
पूर्व सांसद बोले: पुलिस का भय होना चाहिए
परेड चौराहे पर चक्काजाम खुल गया, उसके बाद पूर्व सांसद डॉ. रामलखन सिंह भी पहुंच गए। डॉ. सिंह ने कोतवाली टीआई दामोदर गुप्ता से मामले की जानकारी ली, जिसके बाद उन्होंने कहा कि जनता में पुलिस का भय होना चाहिए। अगर भय नहीं रहेगा, तो इसी तरह की वारदातें होती रहेंगी। हालांकि इससे पहले बहुजन संघर्ष दल व व्यापारियों ने मिलकर कलेक्टर के नाम एएसपी अमृत मीणा को ज्ञापन सौंपा गया था, जिसमें आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार करने की मांग की। इस मौके पर बसंद के प्रदेश सचिव मनोज जैन, जिला अध्यक्ष लज्जाराम कुशवाह समेत व्यापारी आेमप्रकाश, मायाराम आदि मौजूद रहे
ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top