सुब्रत रॉय को जमानत के लिए 5000 करोड़ रुपये की बैंक गारंटी देनी होगी | BetwaanchalBetwaanchal सुब्रत रॉय को जमानत के लिए 5000 करोड़ रुपये की बैंक गारंटी देनी होगी | Betwaanchal
दिनांक 18 October 2019 समय 8:58 AM
Breaking News

सुब्रत रॉय को जमानत के लिए 5000 करोड़ रुपये की बैंक गारंटी देनी होगी

saharaनई दिल्ली 

सुप्रीम कोर्ट ने सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय को तुरंत राहत देने से इंकार कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने सुब्रत रॉय को जमानत के लिए 5,000 करोड़ रुपये की बैंक गारंटी और 5,000 रुपये नकदी देने का आदेश दिया है। बैंक गारंटी की सहारा ने जो पेशकश की थी उसे कोर्ट ने मान लिया है। कोर्ट ने सहारा को निवेशकों के 36 हजार करोड़ रुपए लौटाने के निर्देश भी दिए है। बकाया राशि को 9 किश्तों में देने का सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया है।पहली किश्त 3,000 करोड़ रुपये की होगी और दो बार चूक करने पर सेबी, सहारा द्वारा दी गई बैंक गारंटी को भुना सकता है।

लेकिन, कोर्ट ने उन्हें अंतरिम जमानत नहीं दी। सेबी को बैंक गारंटी जमा करने के बाद ही उन्हें (सुब्रत रॉय को) जमानत मिल सकेगी। कोर्ट ने ने कहा कि सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय की जेल से रिहाई 5,000 करोड़ रूपये नकद जमा करने और 5,000 करोड़ रूपये की बैंक गारंटी देने पर निर्भर करती है।

भुगतान के संबंध में अदालत के निर्देशों का पालन नहीं किया जाता तो रॉय को समर्पण करना होगा। रॉय और सहारा के जेल में बंद दो अन्य निदेशकों को रिहा होने पर अपने पासपोर्ट जमा करने होंगे और वे देश से बाहर नहीं जा सकेंगे। न्यायालय ने कहा कि देश में कहीं भी आने जाने के बारे में रॉय को दिल्ली पुलिस को अवगत कराते रहना होगा

उल्लेखनीय है कि सुब्रत रॉय और उनके समूह के दो निदेशक निवेशकों को 24 हजार करोड़ रुपये लौटाने के लिए दिए गए अदालत के आदेश को नहीं मानने पर पिछले साल चार मार्च से जेल में बंद हैं। यह राशि उनके समूह की दो कंपनियों एसआईआरईसीएल और एसएचएफसीएल ने 2007-2008 में निवेशकों से वसूली थी।

न्यायालय द्वारा फैसला सुनाये जाने के बाद रॉय के वकील ने 5,000 करोड़ रुपये की बैंक गारंटी जमा करने में मुश्किल जताई। जिसके बाद न्यायालय ने रिहाई के लिए राशि की व्यवस्था करने की खातिर तिहाड़ जेल में रॉय की हिरासत अवधि आठ सप्ताह तक बढ़ाई।

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top