दिनांक 20 January 2018 समय 6:34 AM
Breaking News

समुद्र की गहराई में लहराएगा तिरंगा

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

large139393नईदिल्ली। अंतरिक्ष में सफलता के झंडे गाडऩे के बाद भारत अब समुद्र की अनंत गहराइयों में छिपे रहस्यों को सामने लाने की तैयारी में है और इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए पनडुब्बीनुमा एक मानवचलित अनुसंधान यान विकसित करने की योजना चल रही है। पृथ्वी विज्ञान मंत्रलय से मिली जानकारी के मुताबिक तमिनाडु स्थित राष्ट्रीय समुद्र प्रौद्योगिकी संस्थान एनआईओटी ने पनडुब्बी जैसा मानवचलित अनुसंधान यान की विकसित करने की योजना बनाई है। इस यान की अनुमानित लागत 300 करोड़ रूपए है और इसे पूरा होने में तीन से पांच साल का समय लग सकता है। अब तक केवल अमेरिका, जापान, रूस और चीन के पास ही यह क्षमबा मौजूद है। मानवरहित अंतरजलीय वाहन के विकाय और उसके संचालन से प्राप्त हुए अनुभव के आधार पर अब इसी तरह का मानवचलित यान बनाने की योजना को आगे बढ़ाया जा रहा है। इस यान में तीन लोग रह सकते हैं और समुद्र में 6000 मीटर की गहराई में दस से 12 घंटे तक रहे सकता है। इस परियोजना के तकनीकी भागीदार के चयन के लिए वैश्विक टेंडर निकाला जाएगा।
होगा समुद्र खोजी
समुद्र की गहराई में शोध के अलावा तेल एवं गैस भंडारों तथा खनिज संसाधनों का पता लगाने, समुद्री जीवन पर शोध करने, अंतरजलीय खोज और रिकवरी अभियानों में इस यान को उपयोग में लाया जा सकेगा। इस यान की अवधारणा चाल साल पहले तैयार की गई थी लेकिन इसे पिछले कुछ महीनों के दौरान अमली जामा पहनाया गया है।

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top