दिनांक 23 June 2018 समय 5:29 PM
Breaking News

रसोई गैस सब्सिडी में घपला: एक ही खाते में 263 लोगों की गैस सब्सिडी

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

लखनऊ/गोरखपुर

रसोई गैस सब्सिडी में घोटाले से जुड़ा एक बड़ा मामला गोरखपुर में सामने आया है। सरयू इंडेन गैस एजेंसी के ऑपरेटर राहुल ने उपभोक्ताओं के डीबीटीएल फॉर्म फीड करते समय अपना बैंक खाता नंबर डाल दिया। ऐसा एक-दो नहीं बल्कि 263 लोगों के साथ किया। इसके बाद 263 गैस उपभोक्ताओं की सब्सिडी सीधे राहुल के खाते में जमा होने लगी। फरवरी से मई तक गैस ऑपरेटर के खाते में करीब 20 लाख रुपये जमा हो गए। इंडियन ऑयल की जांच में यह तथ्य मिलने के बाद अब राहुल का बैंक खाता सीज कर दिया गया है। शिकायत के बाद पुलिस ने भी मामले की जांच शुरू कर दी है।

इंडियन ऑयल (एलपीजी), यूपी-1 के उप महाप्रबंधक पी के झा ने कहा कि सब्सिडी गैस एजेंसी ऑपरेटर के खाते में जाने का बड़ा मामला गोरखपुर में सामने आया है। कई दूसरे जिलों से भी ऐसी ही शिकायतें मिल रही हैं। सभी जिलों के एरिया मैनेजर को जांच के आदेश दे दिए गए हैं। जुलाई की शुरुआत तक मामले की रिपोर्ट आ जाएगी। रिपोर्ट आने के बाद एजेंसियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

दूसरे जिलों में भी शुरू हुई जांच

गोरखपुर के साथ-साथ फैजाबाद, आजमगढ़, बस्ती, देवीपाटन मंडल के कई जिलों में भी गैस सब्सिडी का घपला सामने आया है। इंडियन ऑयल के अधिकारियों के मुताबिक कई ऐसी एजेंसियां मिली हैं, जो गलत डेटा एंट्री करके अपने खातों में गैस की सब्सिडी जमा करवा रही थीं। शुरुआती जांच में ऐसी करीब 50 एजेंसियों का पता चला है। अमेठी में भी कई उपभोक्ताओं ने शिकायत की है कि डीबीटीएल में शामिल होने के बावजूद उनके खातों में सब्सिडी नहीं आ रही है।

12,000 की सब्सिडी जा रही दूसरे खाते में

सूत्रों के मुताबिक, इंडियन आयल कॉर्पोरेशन ने देश भर में ऐसे करीब 12 हजार उपभोक्ताओं का पता लगाया है, जिनकी सब्सिडी दूसरे के खाते में जा रही थी। यह संख्या अभी शुरुआती जांच में सामने आई है। माना जा रहा है कि जांच के बाद यह तादाद लाखों में पहुंच सकती है। सूत्रों के मुताबिक, पटना की एक गैस एजेंसी के 500 से अधिक उपभोक्ताओं की सब्सिडी भी एक ही बैंक खाते में जा रही है।

अपना खाता भी चेक कीजिए

सब्सिडी घोटाले का शिकार आप भी हो सकते हैं। खाता लिंक होने के बाद भी अगर आपके खाते में सब्सिडी नहीं आ रही है तो आप इसकी शिकायत गैस कंपनी के एरिया मैनेजर के अलावा फोन नंबर 18002333555 पर भी कर सकते हैं। हो सकता है आपके खाते की सब्सिडी किसी और के खाते में जा रही हो।

बैंक कर्मचारियों की भी मिलीभगत!

रिजर्व बैंक के मौजूदा नियम के अनुसार, अगर किसी बैंक खाते में 10 लाख रुपये से अधिक का कैश आता है तो बैंक के अधिकारियों को इसकी जानकारी आरबीआई को देनी होती है। इसके अलावा उस खाते की मॉनीटरिंग भी करनी चाहिए। गोरखपुर के मामले में डीलर के एक कर्मचारी के खाते में 20 लाख रुपये जमा हुए। इस बात को बैंकों ने गंभीरता से नहीं लिया। ऐसे में बैंक पर भी सवाल उठ रहे हैं।

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top