दिनांक 19 December 2017 समय 3:46 AM
Breaking News

मोदी को करना पड़ा विरोध का सामना-कनाडा

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

1ओटावा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तीन देशों की यात्रा शुक्रवार को गुरुद्वारा और लक्ष्मीनारायण मंदिर में दर्शनों के साथ संपन्न हो गई, जहां कुछ लोगों ने उनके खिलाफ प्रदर्शन भी किया।

वह शनिवार सुबह नई दिल्ली पहुंचेंगे। आखिरी पड़ाव में वेंकूवर पहुंचे पीएम के लिए कनाडा के पीएम स्टीफन हार्पर ने मोदी के लिए ग्रैंड रिसेप्शन रखा। इस मौके पर मोदी ने कहा कि मैं मुक्त व्यापार समझौते और द्विपक्षीय निवेश सुरक्षा संधि के जल्द समापन का वादा करता हूं।

इससे पहले वह कनाडा के टॉप सीईओज से भी मिले जिन्हें उन्होंने भारत में निवेश करने का न्योता दिया। खासकर सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट, क्लीन गंगा कैंपेन और स्मार्ट सिटीज में भी भागीदारी करने का आह्वान किया।

पीएम ने कहा कि किसी यात्रा की अहमियत उसकी लंबी अवधि से नहीं बल्कि उद्देश्यों से मापी जाती है। यह ऐतिहासिक यात्रा इसलिए नहीं थी कि भारत के पीएम 42 साल बाद आए बल्कि इसलिए थी कि 42 साल बाद दूरी के बादल एक पल में दूर हो गए।

हिंदू धर्म सिर्फ पंथ नहीं
पीएम खालसा दीवान गुरुद्वारा गए और वहां श्रद्धालुओं से उन्होंने कहा कि सिख समुदाय के लोगों ने अपनी मेहनत से कनाडा के लोगों के बीच सम्मान स्थापित किया है। यही वजह है कि भारत की कनाडा में इतनी इज्जत होती है। वहीं खालसा दीवान सोसायटी के अध्यक्ष सोहन सिंह देव ने कहा कि यह महत्वपूर्ण यात्रा है। इससे पहले नेहरूर और इंदिरा ही यहां आई हैं।

दोनों नेता इसके बाद सरे में स्थित लक्ष्मीनारायण मंदिर गए जहां साउथ एशियन आबादी बड़ी तादाद में है। पीएम ने मंदिर में पूजा की और कहा कि जैसा कि सुप्रीम कोर्ट भी कह चुका है हिंदू धर्म एक धर्म नहीं बल्कि जीवन जीने का ढंग है जो बताता है कि कुदरत के साथ किस तरह मेलजोल करके रहना है।

मोदी के खिलाफ प्रदर्शन : लक्ष्मीनारायण मंदिर के बाहर करीब 500 लोगों ने 2002 के गुजरात दंगों पर बनीं तख्तियां हाथ में ली थीं। पुलिस के भारी बंदोबस्त के बीच प्रदर्शनकारी मोदी, वापस जाओ के नारे लगा रहे थे।
ग्रीन पार्टी ने किया विरोध : कनाडा की ग्रीन पार्टी ने भारत के साथ कनाडा के यूरेनियम समझौते पर गंभीर चिंता जताते हुए कहा है कि यह सीधे तौर पर परमाणु अप्रसार संधि (एनएनपीटी) का उल्लंघन है। समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, ग्रीन पार्टी के घरेलू मामलों की आलोचक लॉरेन रेकमंस ने कहा, ‘कनाडा के नागरिक शांति और लोकतंत्र का समर्थन करते हैं। यदि भारत यूरेनियम का इस्तेमाल हथियार बनाने में करता है तो उसे यूरेनियम बेचने से एनएनपीटी का उल्लंघन हो सकता है। इससे दुनिया में असुरक्षा की समस्या पैदा करने में हम भी भागीदार बन सकते हैं।’

हार्पर की तारीफ : कनाडा से निकलते समय पीएम ने ट्वीट करके कनाडाई पीएम को धन्यवाद दिया। उन्होंने हार्पर को बेहतरीन होस्ट, शानदार इंसान और बहुत अच्छा दोस्त बताया। साथ ही कनाडा के लोगों का भी शुक्रिया अदा किया। पीएम का एयरक्राफ्ट फ्रैंकफर्ट में कुछ देर के लिए ईंधन रीफ्यूलिंग के लिए रुकेगा, जिसके बाद सीधे नई दिल्ली में ही उतरेगा।

जून के बाद मिलेगा यूरेनियम : भारत के अटॉमिक एनर्जी विभाग से यूरेनियम सप्लाई के लिए समझौता करने वाली कनाडा की कंपनी केमिको ने कहा है कि हम डिलिवरी इस साल के दूसरे हिस्से में शुरू कर देंगे। इस यूरेनियम की इस्तेमाल के आखिरी छोर तक सख्ती से निगरानी होगी। कंपनी के सीईओ टिम एस गिजेल ने कहा कि हम भारत को 700 मिलियन पाउंड यूरेनियम सप्लाई करने को लेकर उत्साहित हैं। इससे भारत में बिजली उत्पादन में बड़ी मदद मिलेगी।

9 दिन की यात्रा के कई नतीजे

– फ्रांस भारत को 36 रफाल फाइटर जेट देगा।

– महाराष्ट्र में बंद पड़े जैतापुर न्यूक्लियर प्लांट को आगे बढ़ाया जाएगा।

– जर्मनी से निवेश बढ़ाने के लिए मैकेनिजम बनाने पर सहमति।

– जर्मनी के हेनोवर में दुनिया के सबसे बड़े औद्योगिक फेयर का उद्घाटन, भारत इसका पार्टनर बना है।

– 3000 मीट्रिक टन यूरेनियम की सप्लाई होगी कनाडा से भारत को

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top