दिनांक 22 September 2018 समय 8:37 AM
Breaking News

भिंड(ग्वालियर)-सब इंस्पेक्टर ने साले की शादी में किए फायर, दो की मौत

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

psi-anand_1431003625भिंड(ग्वालियर). अपने साले की शादी में शामिल होने आए शराब के नशे में धुत एक पीएसआई (प्रशिक्षु सब इंस्पेक्टर) ने वरमाला स्टेज पर सर्विस पिस्टल से हर्ष फायर किए। इसमें लड़की के ममेरे भाई की मौत हो गई। भीड़ ने जब थानेदार को पकड़ना चाहा, तो उसने बचने के लिए ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इसमें एक और बच्चे की मौत हो गई।

दो अन्य लाेग घायल हो गए। यह घटनाक्रम बुधवार रात डेढ़ बजे शहर के अंबेडकर नगर में आयोजित शादी समारोह के दौरान हुआ। लोगों ने पीएसआई को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। उसकी सरकारी पिस्टल जब्त कर ली गई है। एसएसपी ग्वालियर ने थानेदार को सस्पेंड कर दिया है। ग्वालियर के इंदरगंज थाने में पदस्थ पीएसआई आनंद जाटव के साले संजू की लहार के भटपुरा गांव से बुधवार रात को शहर के अंबेडकर नगर में बारात आई।
दूल्हे का जीजा आनंद भी इसमें शामिल हुआ। वह अपनी 9 एमएम की सरकारी पिस्टल लेकर आया था। रात करीब डेढ़ बजे जब वरमाला का कार्यक्रम समाप्त होने को था, तभी शराब के नशे में धुत आनंद स्टेज पर पहुंच गया। उसने पिस्टल से गोली चलाते हुए आसमान की तरफ हर्ष फायर किया। दोबारा गोली चलाते समय कारतूस फंस गया। आनंद स्टेज पर ही उसे सही करने लगा। इस बीच गोली चल गई, जो सामने खड़े 13 वर्षीय आलोक पुत्र भुजबल को लगी। आलोक दुल्हन का ममेरा भाई था। उसकी मौके पर ही मौत हो गई। यह देख भगदड़ का माहौल बन गया। वधु पक्ष के लोग आनंद को पकड़ने दौड़े। उसने भीड़ से बचकर भाग निकलने के लिए ताबड़तोड़ फायर करना शुरू कर दिए।
इन गोलियों से एक के बाद एक तीन लोग शिकार हुए। इनमें ग्राम द्वार निवासी रूपसिंह (40) पुत्र सीताराम दोहरे, राजकुंअर (50) पत्नी पूजा राम निवासी नौदा व भटपुरा निवासी धीरज (10) पुत्र धनीराम हैं। रूपसिंह सरकारी शिक्षक है और शादी में शामिल होने के लिए आया था। वहीं राजकुंअर दुल्हन की बुआ है, जबकि 10 वर्षीय धीरज दूल्हे का चचेरा भाई है। धीरज व रूपसिंह को इलाज के लिए बुधवार रात ही ग्वालियर ले जाया गया। इन दोनों की हालत अधिक गंभीर थी। ग्वालियर में गुरुवार को सुबह धीरज ने दम तोड़ दिया।
नियम : ऑफ ड्यूटी, तो नहीं लेकर चल सकते सरकारी पिस्टल
पुलिस विभाग में एएसआई व एएसआई से ऊपर की रैंक के अधिकारी को ही सरकारी पिस्टल दी जाती है। पिस्टल को ड्यूटी समय में ही साथ रख सकते हैं। नियम यह है कि जब संबंधित अधिकारी पिस्टल लेकर चले, तब उसका ड्रेस में होना अनिवार्य है। ड्यूटी खत्म होने पर पिस्टल को थाने में जमा करना चाहिए।
पीएसआई को निलंबित किया है
भिंड में फायरिंग करने वाला पीएसआई ड्यूटी से गैरहाजिर हुआ था, इसके बाद उसने वारदात को अंजाम दिया। उसे निलंबित करने के साथ ही विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी गई है। -संतोष कुमार सिंह, एसएसपी, ग्वालियर
ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top