दिनांक 16 November 2018 समय 9:23 AM
Breaking News

पेइचिंग–भारत के वजह से ‘घर’ में घिरी चीनी सेना

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

PLA-faces-flak-over-swift-Nepal-evacuation-by-Indian-militaryपेइचिंग 
भूकंप प्रभावित नेपाल से हजारों भारतीयों को निकालने में भारतीय सेना की त्वरित कार्रवाई को लेकर चीन की पीएलए को तब रक्षात्मक मुद्रा में आना पड़ा, जब उससे पूछा गया कि हिमालयी देश में फंसे चीन के नागरिकों के बचाव कार्य में उसके प्रयास भारत के समान क्यों नहीं रहे।

मीडिया ने सवाल किए कि क्यों वायु सेना के विमानों की सेवा नेपाल में अभी भी फंसे 8000 से ज्यादा चीनी नागरिकों को निकालने के लिए नहीं ली गई। चीन के रक्षा प्रवक्ता गेंग यानशेंग पर गुरुवार को इस बाबत सवालों की झड़ी लग गई।

नेपाल में पेइचिंग वित्त पोषित परियोजनाओं में काम कर रहे लोगों एवं पर्यटकों को निकालने की धीमी प्रक्रिया को लेकर चीन में नाराजगी है। चीन ने यह जिम्मा असैनिक एयरलाइंस को सौंपा है। भारतीय वायु सेना ने न केवल नेपाल से अपने हजारों नागरिकों को निकाला, बल्कि 15 देशों के 170 नागरिकों को भी वह भारत लाई।

कई अन्य को सड़क मार्ग से बिहार लाया गया। असैनिक विमानों की सेवा लेने का बचाव करते हुए गेंग ने कहा कि कई कारणों से ऐसा किया गया। उन्होंने कहा कि भूकंप के बाद चीनी सरकार ने नेपाल में फंसे अपने नागरिकों को निकालने के लिए कई नागरिक कमर्शल विमान लगाए।

तिब्बत से भी हेलिकॉप्टर रसद लेकर भेजे गए। इससे पहले चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता होंग लेई ने मंगलवार को भूकंप प्रभावित नेपाल में भारत के साथ प्रतिस्पर्द्धा संबंधी रिपोर्टों को कमतर करते हुए कहा था, ‘चीन और भारत नेपाल के पड़ोसी है। हम नेपाल को मदद के अपने प्रयास में भारत के साथ मिलकर काम करना एवं सकारात्मक ढंग से समन्वय चाहते हैं।’

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top