दिनांक 22 February 2018 समय 12:52 AM
Breaking News

नोएडा में आज मोबाइल सर्विस में बाधा बंद होने के आसार

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

Mobile-Towersनोएडा

नोएडा में आज मोबाइल सर्विस में बाधा आ सकती है। यहां रिहायशी इलाकों में मकान मालिक अपनी बिल्डिंग पर लगे मोबाइल टावरों की बिजली सप्लाई बंद करने लगे हैं। इससे रविवार को शहर के कई सेक्टरों की इंटरनेट कनेक्टिविटी की स्पीड स्लो और वाई-फाई सिस्टम के काम नहीं करने की शिकायतें आई हैं।

अथॉरिटी की नई पॉलिसी के अनुसार रिहायशी इलाकों में लगे मोबाइल टावरों को ग्रीन बेल्ट, कमर्शल बिल्डिंग या कम्युनिटी सेंटर आदि पर शिफ्ट किया जाना है। अथॉरिटी ने नोटिस जारी कर टावर नहीं हटाने वाले आवंटियों की लीज कैंसल करने के निर्देश दिए थे। रेजिडेंट्स टावर असोसिएशन के मुताबिक शनिवार तक रिहायशी इलाकों में 130 और रविवार को 50-60 टावरों की बिजली सप्लाई बंद करने की सूचना है। रिहायशी इलाकों में 500 से अधिक टावर हैं।

जानकारों के मुताबिक बिजली बंद होने के बाद 8-10 घंटों के लिए बैट्री से पावर बैक अप मिल पाता है। उसके बाद टावर से जुड़े मोबाइल में कनेक्टिविटी नहीं रहती है। ऐसे में सोमवार तक सभी टावरों में बिजली सप्लाई बंद होने और बैट्री बैकअप चार्ज के खत्म होने के बाद टेलीकॉम सर्विसेज के चरमराने के आसार बन गए हैं। बहरहाल, अथॉरिटी चेयरमैन रमा रमण ने कहा है कि आवंटियों को टावर की बिजली सप्लाई बंद कर पब्लिक को परेशान करने जरूरत नहीं है, शिफ्टिंग के लिए 4-6 महीने का टाइम दिया जाएगा। हालांकि इस बाबत कोई औपचारिक आदेश जारी नहीं हुआ है।

आरटीए मेंबरों ने शनिवार को सेक्टर-18 में हुई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अथॉरिटी के मनमर्जी और तानाशाह रवैये को पब्लिक को होने वाली इस दिक्कत के लिए जिम्मेदार ठहाराया गया। आरटीए अध्यक्ष सतीश बत्रा ने बताया कि अथॉरिटी ने 4 नोटिस भेजे हैं, जबकि सेक्टर- 39 के जी-1 के आवंटी की लीज डीड कैंसल करने संबंधी लेटर मिला है। सेक्टर-44 के सी-42 में रहने वाले सदस्य को सात दिनों के अंदर टावर नहीं हटाए जाने पर लीज डीड कैंसल करने का चेतावनी नोटिस मिला है, जिसके चलते आरटीए मेंबर्स के पास टावर की बिजली सप्लाई बंद करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है।

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top