दिनांक 25 June 2018 समय 11:16 AM
Breaking News

नेपाल भूकंपः इस बार भारत ने ज्यादा टेंशन नहीं ली

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

images (1)

 

नई दिल्ली

25 अप्रैल के भूकंप में भारत ने नेपाल की बढ़-चढ़ कर मदद की थी लेकिन बीते मंगलवार को जब दोबारा भूकंप आया तो भारत ने उतना उत्साह नहीं दिखाया। इसकी वजह पिछली बार की मदद के बाद नेपाल से मिली नकारात्मक प्रतिक्रिया थी।

पिछली बार के भूकंप के बाद नेपाल ने आरोप लगाया था कि काठमांडू एयरपोर्ट को भारतीय विमानों ने भर दिया है। यहां तक कि कुछ भारतीय विमानों को तो उतरने की इजाजत भी नहीं दी गई थी और उन्हें लौटना पड़ा था। कुछ जगहों पर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पुतले भी फूंके गए थे। बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेपाल के पीएम सुशील कोईराला से बात की। लेकिन इस बात यह बातचीत पिछली बार के भूकंप के वक्त दोनों के बीच हुई बातचीत से काफी अलग थी। पिछली बार बातचीत में एक फिक्रमंद पड़ोसी का रवैया था लेकिन बुधवार को हुई बात के बाद मोदी का ट्वीट कुछ और बताता है। उन्होंने लिखा, ‘पीएम सुशील कोईराला से मैंने फोन पर बात की। कल के झटकों के बाद की स्थिति की हमने समीक्षा की।’

25 अप्रैल के भूकंप के बाद जो ट्वीट मोदी ने किया था, उसकी भाषा ही अलग थी। उन्होंने लिखा था, ‘पीएम सुशील कोईराला से बात की। वह बैंकॉक से काठमांडू के रास्ते में थे। इस मुश्किल वक्त में मैंने उन्हें हर संभव मदद का भरोसा दिलाया।’

तब मोदी ने यह भी बताया था कि भूकंप के बारे में कोईराला को उनसे ही पता चला। तब एक घंटे के भीतर समीक्षा के लिए बैठक हो गई थी और मोरारी बापू की नेपाल के लिए 51 लाख रुपये की मदद के बारे में भी मोदी ने ट्वीट किया था। इसके बाद कई दिन तक वह् लगातार इसकी निजी तौर पर समीक्षा करते रहे थे।

लेकिन इस बार विदेश मंत्रालय बहुत सहज रहा। भारत में नेपाल की कोशिशों के बारे में कभी-कभार ट्वीट के अलावा ज्यादा कुछ नहीं कहा गया।

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top