दिनांक 16 November 2018 समय 3:20 PM
Breaking News

दुनिया की सबसे बड़ी इस्लामिक क्लोदिंग कंपनी की नजरें इंडिया पर

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

islamic-clothing-essenceमुंबई

पहनावे की इस्लामिक शैली को मॉडर्न डिजाइन के साथ मिलाकर पेश करने वाले इंटरनैशनल क्लोदिंग ब्रैंड ईस्ट एसेंस ने इंडिया को इस्लामिक फैशन का ग्लोबल सेंटर बनाने की योजना तैयार की है। दुनिया की यह सबसे बड़ी इस्लामिक क्लोदिंग कंपनी अगले महीने इंडियन मार्केट में कदम रखेगी। वह ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस स्नैपडील पर एक ऑनलाइन स्टोर खोलेगी। उसकी योजना इंटरनैशनल मार्केट के लिए इंडिया को मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने की है।

कैलिफोर्निया के सिलिकन वैली में 2007 में यह कंपनी शुरू हुई थी। इसके को-फाउंडर सनी किलाम ने बताया, ‘आइडिया यह है कि काले या सफेद रंग के परंपरागत पहनावे को कलरफुल फैशनेबल पोशाक में बदलने का है। इसके साथ मर्यादा और परंपरा का ध्यान भी रखा जाएगा’

इस अमेरिकी कंपनी का कारोबार 68 देशों में है और इसकी सालाना बिक्री 4 करोड़ डॉलर यानी लगभग 256 करोड़ रुपये की है। स्नैपडील में फैशन डिविजन के वाइस प्रेजिडेंट अमित माहेश्वरी ने कहा, ‘उनकी टीम ने बेहतरी प्रॉडक्ट लाइंस के साथ सावधानी से अपना टारगेट मार्केट चुना है। हम उन्हें सपॉर्ट कर रहे हैं। इससे हमारे मौजूदा बेस में और कस्टमर्स जुड़ेंगे’

मुसलमानों की आबादी वाले मुल्कों में इंडिया दूसरे नंबर पर है। यहां की कुल आबादी में लगभग 14.2 पर्सेंट मुसलमान हैं। इस तरह कंपनी के सामने करीब 17 करोड़ संभावित विशेष ग्राहक हैं।

ईस्ट एसेंस को इसका अंदाजा है और उसने नोएडा में एक मैन्युफैक्चरिंग यूनिट भी खोल ली है। यह यूनिट इंडियन मार्केट के लिए कपड़े तैयार करेगी और बाद में इसे ग्लोबल डिमांड के लिए हब के रूप में डिवेलप किया जाएगा। किलाम ने कहा, ‘हम जारा या फॉरएवर 21 की तरह फैशनेबल होना चाहते हैं, लेकिन अफोर्डेबल प्राइसिंग पर।’ उन्होंने कहा, ‘अमेरिका में ज्यादातर एथनिक मुस्लिम पॉप्युलेशन या तो टेलर-मेड कपड़े पहनती है या इंडिया, पाकिस्तान या बांग्लादेश जैसे अपने मुल्कों में जाने पर वहां से थोक में कपड़े खरीद कर लाती है। हमने शॉपिंग की इस आदत को ज्यादातर यूरोपियन मार्केट्स और अमेरिका में बदल दिया है। यही मॉडल हम इंडिया में भी दोहराना चाहते हैं।’

किलाम की खानदानी जड़ें कश्मीर से जुड़ी हुई हैं। उन्होंने कहा कि ईस्ट एसेंस केवल विमिन क्लोदिंग तक सीमित नहीं रहेगी। कंपनी की कुल सेल्स में मेंसवियर का हिस्सा लगभग 20 पर्सेंट है।

कंपनी इंडिया में ऐमजॉन और दूसरी ऑनलाइन मार्केटप्लेसेज के साथ भी पार्टनरशिप करना चाहती है।

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top