दिनांक 17 October 2017 समय 5:14 AM
Breaking News

क्या किसी खास मकसद के लिए गठबंधन किया है पीडीपी ने ?

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

      qwq       जम्मू कश्मीर में भाजपा पीडीपी गठबंधन ने भले ही सरकार बनाकर देशवासियों को यह संकेत देने का प्रयास किया है कि कश्मीर में सब कुछ सामान्य है पर पीडीपी के रूख से ऐसा लगता नहीं है बार बार गठबंधन की शर्तों से अलग बयानबाजी करके पीडीपी ने स्पष्ट संकेत दे दिए हैं कि वह गठबंधन के दबाब में नहीं है, जिस तरह से सत्ता प्राप्त करते ही मुफ्ती मोहम्मद सईद ने पाकिस्तान सहित आतंकवादियों के तारीफ करना शुरू किया वह सिलसिला रूक नहीं रहा है। जम्मू कश्मीर में उपद्रव मचाने वाले उपद्रवियों जो कि जेल में बंद हैं उन्हे छोडऩे का फरमान मुफ्ती सरकार ने दे दिया और गठबंधन के साथी बीजेपी को पता तक नहीं है। जब इस बारे में बीजेपी के लोगों से पूछा गया तो वह बगला झांकते नजïर आए। भाजपा का एकतरफा प्रेम कहीं मुसीबत न बन जाए।

wqw

कश्मीर सरकार को बनाए रखने के लिए पाकिस्तान भी अपरोक्ष रूप से मदद करता दिखाई दे रहा है क्योंकि भारत में कश्मीर सरकार को लेकर आलोचना हो रही है उसी बीच पाकिस्तान में ऑनलाइन सर्वे में साठ प्रतिशत लोगों ने कश्मीर की सरकार को एक अच्छा कदम बताया। इसका मतलब ये हुआ की वह यह बताने का प्रयास कर रहे हैं की जो कश्मीर में हो रहा है उसमें उनकी सहभागिता है। भले ही केन्द्र सरकार को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कूटनीती के तहत यह गठबंधन करना पड़ा हो पर देश के लोग इस गठबंधन के खुश नहीं हैं।

download
अटल सरकार के समय भी भाजपा का पाकिस्तान प्रेम कारगिल युद्ध में बदल गया था जिसमें हजारों सैनिकों को कुर्बानी देनी पड़ी थी। वक्त रहते भाजपा सरकार ने पीडीपी के खिलाफ सख्त रवैया नहीं अपनाया तो निश्चित ही वह अपने मकसद में कामयाब हो जाऐंगे भले ही बाद में आप गठबंधन तोड़ते रहना। अफज़ल गुरू जैसे लोगों की अस्थियां की मांग करना देश द्रोह से कम नहीं है। इन सब बातों को भाजपा को समझना होगा, यदि यह काम कांग्रेस या अन्य कोई पार्टी करती तो निश्चित ही देश में पुतले जलने का सिलसिला शुरू हो गया होता। राष्ट्रप्रेम की बात करना और राष्ट्रप्रेम पर खरा उतरना दोनों अलग अलग बातें हैं पर अभी तो मुफ्ती सरकार का एजेंडा किसी खास मकसद की ओर इंगित करता है।

 

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top