दिनांक 28 May 2018 समय 8:52 AM
Breaking News

आधार से जुड़ेगा वोटर कार्ड

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

hs.brhma4-1427031545

 

कोलकाता। मुख्य चुनाव आयुक्त एच एस ब्रहमा ने शनिवार को कहा कि भारत दुनिया में बायोमीट्रिक डाटा वाला पहला देश बनने वाला है और मतदाता पहचान पत्र को आधारकार्ड से जोड़ा जाएगा, इसके बाद मतदाता सूची में कोई दोहराव नहीं होगा सकेगा। भारत जल्द मतदाता सूची के लिए बायोमीट्रिक डाटा एकत्र करने की तैयारी कर रहा है। इससे भारत जालसाजी रोकने वाला पहला देश बन सकता है। ब्रहमा ने बताया कि आधार नंबर को मतदाता फोटो पहचान पत्र से जोडने के बाद हम यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि देश में एक भी फर्जी वोटर आईडी कार्ड नहीं बने। यह इसी वर्ष संभव हो सकता है।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा नागरिक सेवाओं का लाभ लेने के लिए आधार की अनिवार्यता खत्म करने के संबंध में ब्रहमा ने कहा कि हर रोज लाखों लोग खुद आधार रजिस्ट्रेशन करा रहे हैं। अब तक 85 करोड़ लोग आधार कार्ड बनवा चुके हैं। हम आधार को अनिवार्य नहीं बनाना चाहते हैं लेकिन मतदाता खुद ऎसा चाहते हैं। यह अच्छी बात है। ब्रहमा चुनाव सुधार विषयक सम्मेलन में बोल रहे थे। ब्रहमा ने सभी नागरिकों से मतदाता सूची में दोहराव रोकने की अपील की और कहा कि यह अपराध है जिसकी सजा एक साल है।

जल्द ही पूरा हो सकता है ई-वोटिंग का सपना-
ब्रहमा ने कहा कि भारतीय चुनाव प्रणाली अच्छी है। अब ई-वोटिंग का सपना दूर नहीं है। भारत तीन से चार सप्ताह के भीतर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग पद्धति लागू कर सकता है। लेकिन हमें प्रौद्योगिकी की रक्षा व सुरक्षा सुनिश्चित करनी पड़ेगी। गुजरात पहले ही इसे लागू कर चुका है। सम्मेलन में दिल्ली स्टडी ग्रुप की ओर से सुझाव आया कि किसी चुनाव में किसी उम्मीदवार को एक ही जगह से खड़ा होने की अनुमति हो। इससे खर्च में बचत, समय की बबार्दी व मतदाताओं को उत्पीडन से बचाया जा सकता है।

रद्द होगा निष्क्रिय पार्टीयों का पंजीकरण-
चुनाव आयोग जल्द पिछले 5-10 साल से किसी भी चुनाव में भाग नहीं लेने वाले राजनीतिक दलों का पंजीकरण रद्द कर सकता है। मुख्य निर्वाचन आयुक्त एचएस ब्रहमा बताया कि देश में करीब 1600 पार्टियों का रजिस्टे्रशन है, जिनमें से महज 200 पार्टियां चुनाव प्रक्रिया में शामिल होती हैं। पंजीकरण मात्र से ही राजनीतिक दलों को कई सुविधाएं प्राप्त होने लगती हैं। लेकिन ऎसे सैकड़ों दल हैं जिन्होंने काफी समय से नगर निगम और पंचायत के चुनाव भी नहीं लड़े।

ShareGoogle+FacebookLinkedInTwitterStumbleUponEmail

comments

About Pradeep Rajpoot

Pradeep Rajpoot is a social activist, businessman and editor in chief of Betwa Anchal weekly news paper.
Scroll To Top